The Difficult Journey!

Original story by Col Sushil Tanwar, translated by The watcher

(To read story in Hindi please scroll down)

“Welcome to Jammu Airport,  Now you should be able to use your mobile phones. Jammu airport is also owned and operated by the Indian Air Force. Photography is not permitted due to security reasons”. As soon as the passengers heard this announcement, there was a stampede aboard the Air India Flight AI-820 coming from Delhi to Jammu. The passengers who were sitting silently for an hour suddenly started competing with one another to get off the plane as quickly as possible.

The young woman, who was silently sleeping in the corner with her head still facing the corner window woke up from the noise and started cursing at the passangers. “I don’t know why these people are in such a hurry. They are behaving as if they are in a local bus”

While she was quietly commenting on the noisy passangers, her eyes suddenly fell upon a middle-aged passenger standing a little distance away, who was taking pictures from his mobile of the scene happening outside.

“Excuse me. Why are you taking a photo here? An announcement was made right now. Did not you hear?”

The man turned around and looked at the woman and he again started taking photos without given her any importance.

“Hello Mister . I am talking to you only. Please.”

“O madam ji, Do your work. I am not taking your photo, is it? do not disturb me.”

Noticing the atmopshere heating up, an airhostess quickly approached the two passangers.

“Can i help you”

“Yes, Please convinice this person to not take any photos. Can you also ask him to delete all the photos in his phone.”

Suddenly,  He started noticing that everyone’s attention was towards him,  He was a little shaken and he stopped taking photographs.

While getting off the plane, The air hostess said goodbye to the girl with a namaste, the respect and gratitude in her eyes was palpable.

There was a good crowd at the Jammu Airport. It was a small airport which probably looked similar to a railway station. Just as she came outside with her luggage. She noticed a familiar face.

“Jai Hind Sahib. Come, the car is in the parking lot there.”

People were stunned for a moment to see Indian Army Havaldar in uniform, saluting in front of a young woman. After all, who would have known that this young woman was an officer in the Indian Army.

Capt. Swati Nair. Military Intelligence

She was joining her unit today after a few days of vacation.

She was posted into this intelligence unit only 4 months ago. This was the first unit after the training in the academy. The first unit of an army officer is like their first love. Always dear to them.

Swati had performed very well during the training. She had a dream of becoming an ideal officer and also had a great sense of duty to serve the country.

She came to the unit with hopes and desires. The unit was located at Nagrota, a few kilometers from Jammu. And its commanding officer was Colonel Prabhat Sharma.

Colonel Sharma’s style was unique. It was really difficult to understand him. He was hardworking, very effective and also eccentric at times. When he came to know about Swati’s posting, He immediately called Delhi headquarters.

He did not want any female officer in his unit. As this was a difficult situation and a terror striken area. He believed that there could be problems due to having only one female officer in the entire unit. To arrange for her to stay, to coordinate the only female officer with the unit’s soldiers and officers. He did not want to get involved in any complications that could occur later.

But Headquarters ignored his request and Swati’s posting was not canceled. And subsequently Captain Swati was under Colonel Sharma’s command.

Although Swati got full respect in the unit but also got the responsibility of small administrative tasks in the name of work. For example, care of officer mess. Arrangement for visitors Small paperwork. It is as if everyone had already decided that women officers should be kept away from difficult and risky assignments.

When Swati came back to her small room after work everyday, she would find the work done throughout her day useless. She really wanted to do some interesting work. Take part in an operations against terrorists by going to difficult areas and apart from this, there was also a separate responsibility of being the only female officer in the whole unit. It seemed as if, she was being tested all the time. She is being tested at every step, as if everyone is waiting for a mistake so that they can say that women have no place in the inaccessible life of the army.

Sometimes she thought that maybe she was thinking too much. It is possible that all new officers initially feel uncomfortable at the beginning.

But whatever was happening was very difficult. And so, after four months, when she got two weeks’ leave, the thought of going was challenging.

Her father had also retired from the army. It was natural to talk about the army at home, but they ignored Swati’s problems by saying that every officer initially finds it difficult.

In their time, the induction of women in the army was also beyond thinking and perhaps it was difficult for him to understand Swati.

But his younger sister Kavita was sure that something was wrong.

“All is well, akka. It seems that you are not happy by going to the army.”

“Something like that. It’s not as easy as we think. There is a strange tension all the time. And it may prove itself”

“You only wanted to be an army officer. Please think about this once again.  The way you are roaming around like a free bird, going where you want to go. Wearing what you want to wear. Saying what ever you want. This all ends as soon as you join the Army. Rest is your choice.”

“But in spite of all this, there is one thing. Even today when I wear uniform, I feel very proud of myself and all these complaints disappear.”

“I believe I am sounding confused.”

“Leave all these unnecessary things about the army. I am probably thinking too much. Now at least these two weeks we can have fun.”

She never realised when her holiday’s ended.

The same routine started once again after reaching the unit.  Staying up and working all day and wondering in the evening of what had been done the whole day.

Then one day in the morning, Colonel Sharma called her and asked her to prepare for briefing in the core headquarters.

Look I have prepared the presentation. You just keep changing the slides at my behest. Nothing should go wrong.

And you must watch the entire presentation once. We have to reach there at exactly ten o’clock tomorrow.

It was small work but atleast it was something important. Swati was ready with full enthusiasm thinking about this.

The next day the briefing was going very well when Commander Sahib asked Colonel Sharma to show two four areas on the map. He believed that you could not properly pin point things on the map using a powerpoint presentation.

Colonel Sharma was definitely a little shaky. And his eyesight was searching all over the place on the big map on the wall, which Swati solved his dilemma by spotting those areas with a laser pointer.

The briefing went well and Commander Sahib also expressed his happiness on the way.

“Well done”

Colonel Sharma’s praise for Swati meant a lot. He thought a little and then daringly replied to Colonel Sahib.

Thank you sir. Actually, I think if we use satellite imagery instead of maps in such briefings, then it will be easy to explain our point.

OK. Will think about this next time. Colonel Sharma replied bluntly.

He wasn’t particularly interested in Swati’s suggestion. On one hand a 4 days job worker gave him an unsolicited advice. On the other hand he had very little understanding of technology. He even entrusted his clerk with the responsibility of starting it daily. Indeed, his understanding was limited to Facebook and WhatsApp.

That was the beginning of a period when social media was fast catching up on human life. While tools like Twitter and Telegram were working to connect people with each other, they were also being used to spread terror and chaos around the world. Jammu and Kashmir was also not untouched by the impact of this new technology.

Especially anti-social elements were using social media a lot to spread false news and incite people and terrorist organizations to carry out their actions.

Many top-class terrorists sitting in Pakistan also adopted the same means to reconcile with their colleagues in Jammu and Kashmir.

In such a situation, it was important for the security forces to pay attention to this aspect.

Colonel Sharma imposed this responsibility on Swati’s head. A team of three people was also handed over to her. According to him, all this was necessary but not as much as an encounter of terrorists in the field. It was mentally difficult for the old-fashioned Sharma Sahib to understand the new technology of this era.

But this was a perfect opportunity for Swati. A challenge she was eagerly looking for. Like she had gotten a new life after a long time. She poured herself into this work with all her energy.

The men in her team were not that well educated but Swati soon made them aware of platforms like Facebook, Twitter and Instagram. Initially she did have some difficulty, but then her team mastered the art of investigating and finding important information through social media.

Now it was the case that Colonel Sharma would get the first information of most incidents from Swati’s team. It is said that the importance of news in the field of intelligence depends on its speed. Her unit was now the first to make the top commanders aware of the emerging situation.

Although this was enough for Colonel Sharma, but for Swati, it was just the beginning. She often educated her team that other than news she could get a lot more information through social media. All that is needed is dedication, mindfulness and technical skills.

The result of this hard work was that the whole team started getting a lot of respect in the unit. Especially Swati. Most of the personnel and officers of the unit were well impressed with her dedication and her manner of working.

Yes, as always, some people were not yet conviniced by the presence of women in the army. Swati would have to face this situation.

A big event was to be held near Jammu in October the same year. A martyr’s memorial was inaugurated near Bahu Fort, the old fort in Jammu, in which all important officials were to attend.

It was evident that the terrorists were also keeping an eye on this program. If they were successful in obstructing it, they could have given a big blow to the credibility of the security forces.

Colonel Sharma and his unit were responsible for the security of the program. The settlement included several important aspects such as coordination with the police and monitoring of the surrounding areas as well as deployment of security forces.

His entire unit was involved in these preparations. As the day of the event was getting closer, the restlessness  among the top officers was also increasing.

The security forces where on high alert everywhere. There were inspection of incomming and outgoing vehicles.

A day before the event, Swati made a sudden request to Colonel Sharma late at night.

“Sir, This is the Kalka colony behind Bahu Fort. We should do a search here. And should also deploy some personal there.”

“Why, do you have any news? You have also seen that area. It is nothing less than Dharavi. There are so many houses there that the search will not end even for three days.”

I know sir. There is no strong news, but today only two people have put their photo on Facebook, in which their location is Kalka Colony. The back fort is also visible. Both of these people are from Kashmir and always talk in favor of the terrorists. We have been tracking them on social media for a long time. Maybe they know something. May be my guess is wrong, but still I think it is necessary to show some action of the security forces here.

See, I am not  yet convinced about this. but let’s still get the police and army to do a joint operation there. After all, this is such a big program that we cannot give anyone a chance.

Well, in the search of that area, there was no clue of the terrorists, but the martyr’s memorial was successfully organized with great pomp. A number of high officials, including the governor of the state, took part.

And Colonel Sharma breathed peace. The top officers congratulated him for the security arrangements.

As time passed, so were new ideas in Swati’s mind. Due to the new technology, uncountable avenues to get news were opened and Swati wanted to try them all. Sometimes she thought of bugging the terrorists’ mobile phones, sometimes analyzing the call records of their supporters. It was not that she had success every time with all these tricks, but due to her technical thinking, she saw that the rest of the unit too had started adopting similar new methods. Swati’s team used to take help in many actions, from identifying someone to tracking someone. In view of his importance, her team’s number had also increased from four to ten, and along with that she also get her hands on some new computers and gadgets.

After about a month, Swati was summoned to the office by Colonel Sharma.

As soon as Swati came inside, he moved a file towards her.

Know what it is?

No sir…

Last week, a notorious commander of Jaish-e-Mohammed was arrested in Srinagar. Kari Yasir.

This is his interrogation report. He had stated that he planned to attack during the Bahu Fort event. And he stayed in Kalka Colony. But at the last moment due to our search operation, They got scattered everywhere and could not execute his plan.

Good job Swati. If you did not insist things might have messed up.

Thank you sir. Well it was just a guess.

I know. But it worked. One more thing, Swati. When your posting came, I tried to cancel it. I did not find it appropriate to have a female officer in our unit. But I’m glad you proved me wrong. But remember that this is just the beginning. This journey is very long with both bad luck and good luck. Keep your spirits high.

Swati walked out of his office just a few steps away when Major Chaturvedi interrupted her while coming from the front.

“Yes, Today seems to have brought some good praise again from the CO. You sit in front of the computer and earn your name while we grease our knees in the middle of the Jungle.”

Swati just smiled upon hearing this. Instead of happiness, you could feel the neglect in her face.

However, she had understood that in this is  a  never ending battle, she had no need to prove herself every moment to anyone.

She was happy with her work. Her unit was proud of her and that was all that mattered to her.

To read more stories by Col Sushil Tanwar:

The Red Jacket!

Love Jihad– story by an officer

**********************************

जम्मू हवाई अड्डे पर आपका स्वागत है। अब आप अपने मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर सकते है। जम्मू हवाईअड्डा सैनिक विमानतल है । सुरक्षा कारणों से यहां पर फोटो खींचना माना है।

दिल्ली से जम्मू आ रही एयर इंडिया की फ्लाइट एआई 820 पर ये सूचना होते ही भगदड़ मच गई थी । एक घंटे से चुपचाप सिकुड़े बैठे यात्रियों में जैसे अचानक किसी ने जान फूंक दी और वो सब एक दूसरे से पहले नीचे उतरने की होड़ में लग गए थे।

इस लापरवाह भाग दौड़ के शोर से अब तक कोने वाली खिड़की के साथ सिर लगा कर चुप चाप सो रही उस नौजवान लड़की ने एक पल के लिए अपनी आंखे खोली और फिर मन ही मन भीड को कोसना शुरू कर दिया।

पता नहीं इतनी जल्दी उतर कर कहां जाएंगे। फ्लाइट को रोडवेज की बस बना दिया है जाहिलों ने।

अफरा तफरी करते लोगों पर वो चुप चाप बैठी गुस्सा कर ही रही थी कि अचानक उसकी नजर थोड़ी दूर खड़े एक अधेड़ उम्र के यात्री पर पड़ी जो अपने मोबाइल से बाहर के नजारों की तस्वीरें खींच रहा था।

एक्सक्यूज मी। आप यहां फोटो क्यूं खींच रहे है। अभी अनाउंसमेंट हुई थी ना। सुना नहीं आपने।

उस आदमी ने पलट कर एक नजर उस लड़की को देखा और वो फिर से बेपरवाह हो कर फोटो लेने में जुट गया।

हेलो मिस्टर । मैं आपसे ही बात कर रही हूं। प्लीज़ ।

ओ मैडम जी । अपना काम करो। आपकी फोटो तो नहीं निकाल रहा हूं ना। परेशान मत करो।

इतनी सी देर में माहौल को गरम होते देख विमान की एयर होस्टेस जल्दी से उनके नजदीक आ गई थी।

कैन आई हेल्प यू ।

जी हां। आप इनको समझाएं कि फोटो ना निकाले। और अपने फोन से यहां की सारी फोटोस भी डिलीट करें।

अचानक ही सब का ध्यान अपनी ओर होता देख कर वो यात्री थोड़ा झेप सा गया था और हिचकिचाते हुए उसने फोटो खींचना बंद कर दिया।

विमान से उतरते वक्त जब एयर होस्टेस ने उस लड़की को नमस्ते के साथ अलविदा कहा तो उसकी आंखो मे आदर और आभार साफ झलक रहा था।

जम्मू एयरपोर्ट पर अच्छी खासी भीड़ थी। छोटा सा तो एयरपोर्ट है वहां का। किसी रेलवे स्टेशन जैसा ही लगता है।

वो अपना सामान उठा कर बाहर निकली ही थी कि उसे एक जानी पहचानी शक्ल दिखाई दी।

जय हिन्द साहिब। आइए गाड़ी उधर पार्किंग में है।

वर्दी में आए उस फौजी हवलदार को एक लड़की के सामने सैल्यूट करते देख आसपास के लोग पल भर को रुक गए थे।

उनका सकपकाना वाजिब ही था। आखिर उस नौजवान लड़की को देख कर भला कौन अंदाज़ा लगा सकता था कि वो भारतीय सेना में एक अफसर है।

कैप्टन स्वाति नायर। मिलिट्री इंटेलिजेंस।

कुछ दिनों की छुट्टियां बिताने के बाद वो आज वापिस अपनी यूनिट ज्वॉइन कर रही थी।

चार महीने पहले ही उसकी इंटेलिजेंस यूनिट में पोस्टिंग हुई थी। एकेडमी की ट्रेनिंग खत्म होने के बाद पहली यूनिट। फौजी अफसर की पहली यूनिट पहले प्यार जैसी होती है। हमेशा अज़ीज़।

स्वाति ने ट्रेनिंग के दौरान बहुत अव्वल दर्जे का प्रदर्शन किया था। आदर्श अफसर बनने का सपना था उसका। और देश की सेवा में अपने कर्तव्य को निभाने का भरपूर ज़ज़्बा।

इन्हीं उम्मीदों और हसरतों के साथ वो यूनिट में आयी थी। यूनिट जम्मू से कुछ किलोमीटर दूर नगरोटा में स्थित थी। और उसके कमान अधिकारी थे कर्नल प्रभात शर्मा।

कर्नल शर्मा का अंदाज़ निराला था। उनको समझना वाकई मुश्किल था। वो मेहनती थे। असरदार थे। और थोडे सनकी भी थे। जब उनको स्वाति की पोस्टिंग के बारे में पता लगा तो उन्होंने दिल्ली हेडक्वार्टर में झट से फोन लगाया था।

वो नहीं चाहते थे कि इस आतंक ग्रस्त इलाक़े के मुश्किल हालात में कोई महिला अधिकारी उनकी यूनिट में आए। उनका मानना था कि पूरी यूनिट में सिर्फ एक महिला अफसर होने से दिक्कतें आ सकती है। उसके रहने का इंतजाम करना । यूनिट के जवानों और अफसरों के साथ इकलौती महिला अधिकारी का तालमेल बिठाना। इन प्रशासनिक दुविधाओं जैसे पेचीदा मसलों में वो नहीं पड़ना चाहते थे।

लेकिन हैडक्वार्टर ने उनकी गुजारिश को नजरंदाज कर दिया और स्वाति की पोस्टिंग रद्द नहीं की गई। और इसी तरह कैप्टन स्वाति पहुंच गई कर्नल शर्मा की कमान मे।

यूं तो स्वाति को यूनिट में पूरा आदर मिला लेकिन काम के नाम पर मिला छोटे छोटे प्रशासनिक कार्यों की जिम्मेवारी। मसलन अफसर मैस की देखभाल। आने जाने वालों का बंदोबस्त। छोटी मोटी कागज़ी कारवाई । मानो सब ने ये पहले से ही तय कर लिया हो कि महिला अफसरों को मुश्किल और जोखिम भरे कामों से दूर रखा जाना चाहिए।

हर रोज़ थक हार कर स्वाति जब अपने छोटे से कमरे में वापिस आती तो उसको अपने दिन भर में किए काम फालतू लगते। उसकी दिली ख्वाहिश थी कि वो कुछ रोचक काम करे। मुश्किल इलाको मे जा कर आतंकियों के खिलाफ किसी ऑपरेशन में हिस्सा ले।

और इसके अलावा पूरी यूनिट में अकेले महिला अफसर होने की अलग जिम्मेवारी भी तो थी। ऐसा लगता था मानो हर वक्त उसी की परीक्षा हो रही हो। हर कदम पर उसे परखा जा रहा हो। जैसे सबको बस उसकी एक गलती का इंतजार हो ताकि वो कह सकें कि फौज की दुर्गम ज़िन्दगी में महिलाओं का कोई स्थान नहीं है।

कभी कभी तो उसे लगता कि शायद वो कुछ ज्यादा ही सोच रही थी। हो सकता है कि सभी नए अफसर शुरू शुरू में ऐसे ही असहज महसूस करते हो।

लेकिन जो भी हो रहा था वो बड़ा मुश्किल था । और इसलिए चार महीने के बाद जब उसे दो हफ्तों की छुट्टी मिली तो घर जाने के ख्याल से ही जैसे उसकी जान मे जान आ गई थी।

उसके पापा भी फौज से सेवा निवृत हुए थे। घर पर सेना के बारे में बातें होना लाज़िमी था लेकिन स्वाति की मुश्किलों को उन्होंने ये कह कर नजरअंदाज कर दिया कि हर अफसर को शुरू शुरू मे इसी तरह सब मुश्किल लगता है।

उनके ज़माने में तो फौज मे लड़कियों का आना भी सोच से परे था और शायद इसलिए उनके लिए स्वाति की बातों को समझना जरा मुश्किल था।

लेकिन उसकी छोटी बहन कविता ज़रूर भांप गई थी कि कुछ गड़बड़ है।

सब ठीक तो है ना अक्का । ऐसा लग रहा है कि तू खुश नहीं है आर्मी मे जा कर।

कुछ ऐसा ही समझ। यार इतना आसान नहीं है जितना हम सोचते है। हर वक्त एक अजीब सा टेंशन है। और ये शायद खुद को साबित करने की हसरत का नतीजा है।

तू भी चाहती है ना आर्मी अफसर बनना। मेरी मान तो एक बार और सोच ले । ये जो तू आजाद पंछी की तरह घूमती है ना । जहां जाना हो चले गए। जो पहनना हो पहन लिया। जैसे बात करनी हो कर ली। सेना में आते ही ये सब खत्म हो जाएगा। बाकी तेरी मर्ज़ी।

लेकिन इस सब के बावजूद एक बात तो है यार। आज भी जब वर्दी पहनती हूं ना तब खुद पर बड़ा गर्व होता है और ये सारी शिकायते गायब हो जाती हैं।

बहुत कन्फ्यूज्ड लग रही हूं ना मैं।

चल छोड़ ये सब फौज की फालतू बातें । मैं शायद कुछ ज्यादा ही दिमाग लगा रही हूं। अब कम से कम इन दो हफ्ते तो तेरे साथ मस्ती करना बनता है ।

बस इसी तरह स्वाति की छुट्टियां कब खत्म हो गई ये पता ही नहीं लगा ।

यूनिट पहुंच कर फिर वही दिनचर्या शुरू हो गई। पूरे दिन मशरूफ रहना और शाम को ताज़्जुब करना कि पूरे दिन आखिर किया क्या है।

फिर एक दिन सुबह सुबह कर्नल शर्मा ने उसे बुलाया और कोर हेडक्वार्टर मे ब्रीफिंग की तैयारी करने को कहा।

देखो । प्रेजेंटेशन तो मैंने तैयार कर ली है। तुम बस मेरे इशारे पर स्लाइड्स को बढ़ाते रहना। कुछ गड़बड़ नहीं होनी चाहिए।

और तुम एक बार पूरी प्रेजेंटेशन जरुर देख लेना । कल ठीक दस बजे हमे वहां पहुंचना है।

छोटा काम ही सही लेकिन कुछ तो अहम था। बस यही सोच कर स्वाति पूरे उत्साह के साथ तैयार हो गई थी।

अगले दिन ब्रीफिंग बहुत अच्छी चल रही जब कमांडर साहिब ने कर्नल शर्मा को दो चार इलाक़े नक्शे पर दिखाने को कहा। उनका मानना था कि पॉवरपॉइंट पर किसी जगह का ठीक से अंदाज़ा नहीं होता।

कर्नल शर्मा थोड़े सकपकाए ज़रूर थे। और उनकी नजर दीवार पर लगे बड़े से नक्शे में वो सब जगह तलाश कर ही रही थी कि स्वाति ने लेजर प्वाइंटर से उन इलाको की निशानदेही कर के उनकी दुविधा दूर कर दी।

ब्रीफिंग अच्छी तरह संपन्न हुई और कमांडर साहिब ने भी जाते वक्त अपनी खुशी का इजहार किया।

वैल डन।

स्वाति के लिए कर्नल शर्मा का ये शाबाशी देना बहुत मायने रखता था। उसने थोड़ा सोचा और फिर हिम्मत करते हुए कर्नल साहिब को जवाब दिया।

थैंक यू सर। दरअसल मुझे लगता है कि अगर इस तरह की ब्रीफिंग में हम नक्शे की बजाय सैटेलाइट इमेजरी का इस्तेमाल करेंगे तो अपनी बात समझाने में आसानी रहेगी।

ओके। अगली बार सोचेंगे।

कर्नल शर्मा ने दो टूक जवाब दिया था। उन्हें स्वाति के सुझाव मे कुछ खास दिलचस्पी नहीं थी। एक तो जुम्मा चुम्मा चार दिन की नौकरी वाली ने उन पर अनचाहा प्रस्ताव दे मारा था और दूसरे किसी भी तरह की टेक्नोलॉजी उनके लिए मानो काला अक्षर भैंस बराबर थी । उनके ऑफिस में कंप्यूटर भी तो किसी शो पीस की तरह ही रखा हुआ था। यहां तक कि उसे रोज़ चालू करने की भी जिम्मेदारी भी उन्होंने अपने क्लर्क को थमाई हुई थी। वाकई उनकी समझ फेसबुक और वॉट्सएप तक ही सीमित थी।

वो ऐसे दौर की शुरुआत थी जब सोशल मीडिया तेज़ी से इंसानी जिंदगी पर अपनी पकड़ बना रहा था। जहां ट्विटर और टेलीग्राम जैसे साधन लोगो को एक दूसरे से जोड़ने का काम कर रहे थे वहीं दुनिया भर में इनका इस्तेमाल आतंक और अराजकता फैलाने के लिए भी किया जा रहा था। जम्मू और कश्मीर भी इस नई तकनीक के प्रभाव से अछूता नहीं था।

खासकर यहां असामाजिक तत्व झूठी खबरें फैलाकर लोगो को भड़काने के लिए और आतंकवादी संगठन अपनी कार्यवाहियों को अंजाम देने के लिए सोशल मीडिया का खूब प्रयोग कर रहे थे।

पाकिस्तान में बैठे कई आला दर्जे के आतंकियों ने भी जम्मू कश्मीर में मौजूद अपने साथियों से मेल मिलाप के लिए यही जरिया अपना लिया था।

ऐसे में सुरक्षा बलों के लिए इस पहलू पर तवज्जो देना खास जरूरी हो गया था।

कर्नल शर्मा ने ये जिम्मेवारी स्वाति के सिर पर थोप दी। साथ में तीन लोगों की एक टीम भी उसके हवाले कर दी। वैसे उनके हिसाब से ये सब जरूरी तो था पर उतना नहीं जितना कि फील्ड में आतंकवादियों का एनकाउंटर करना। पुराने जमाने के शर्मा साहिब के लिए इस दौर की नई तकनीक को समझ पाना मानसिक रूप से जरा मुश्किल था।

मगर स्वाति के लिए ये एक सही मौका था। एक ऐसी चुनौती जिसकी उसे बेसब्री से तलाश थी। जैसे उसे लंबे इंतजार के बाद एक नई जिंदगी मिल गई हो। उसने अपने आप को पूरे जी जान से इसी काम में झोंक दिया।

उसकी टीम में शामिल सिपाही कुछ खास पढ़े लिखे नही थे लेकिन स्वाति ने जल्द ही उनको भी फेसबुक ट्विटर और इंस्टाग्राम जैसे प्लेटफार्म से अवगत करा दिया। शुरू शुरू में उसे थोड़ी मुश्किल जरूर हुई लेकिन फिर उनकी टीम ने सोशल मीडिया से खबरे निकालने और छानबीन करने में महारत हासिल कर ली।

अब तो ये आलम था कि कर्नल शर्मा को अधिकतर घटनाओं की पहली जानकारी स्वाति की टीम से मुहैया होती। कहते है इंटेलिजेंस के क्षेत्र में खबर की अहमियत उसकी रफ्तार पर निर्भर करती है। आला कमांडरों को उभरते हालात से सबसे पहले अवगत कराने में उनकी यूनिट अब सबसे अव्वल थी।

वैसे तो कर्नल शर्मा के लिए इतना ही बहुत था लेकिन स्वाति के लिए ये बस एक शुरुआत थी। वो अक्सर अपनी टीम को समझाती कि टेक्नोलॉजी व‌ सोशल मीडिया के और भी ज्यादा इस्तेमाल से वो खबरों के अलावा भी काफी कुछ पता कर सकते हैं। बस जरूरत है तो लगन , दिमागी सजगता और तकनीकी कुशलता की।

इसी मेहनत का ही नतीजा था कि पूरी टीम को यूनिट में बहुत सम्मान मिलने लगा । खासकर स्वाति को। यूनिट के ज्यादातर जवान और अफसर कैप्टन स्वाति के काम और तौर तरीकों से अच्छा खासा प्रभावित थे।

हां हमेशा की तरह कुछ लोग अभी तक फौज में महिलाओं की मौजूदगी से राजी नहीं थे। कभी कभार स्वाति को उनके कटाक्ष का सामना ज़रूर करना पड़ता।

उसी साल अक्टूबर में जम्मू के नजदीक एक बड़ा आयोजन होना था । जम्मू के पुराने किले बाहु फोर्ट के पास एक शहीद स्मारक का उद्घाटन था जिसमे सभी उच्च अधिकारियों को शरीक होना था।

जाहिर था कि आतंकवादियों की नजर भी इस कार्यक्रम पर थी। अगर वो इसमें बाधा पहुंचाने में सफल हो जाते तो सुरक्षा बलो की साख को एक बड़ा झटका दे सकते थे।

कार्यक्रम की सुरक्षा की जिम्मेदारी कर्नल शर्मा और उनकी यूनिट पर थी। इस बंदोबस्त में पुलिस से तालमेल और आस पास के इलाकों की निगरानी के अलावा सुरक्षा बलों की तैनाती जैसे कई महत्वपूर्ण पहलू शामिल थे।

उनकी पूरी यूनिट इन्ही तैयारियों में मशरूफ थी। जैसे जैसे आयोजन का दिन नजदीक आ रहा था वैसे वैसे आला अफसरों की बेचैनी भी बढ़ रही थी।

हर तरफ सुरक्षा बलों का पहरा बढ़ा दिया गया था। आने जाने वाली गाड़ियों की तलाशी भी ली जा रही थी।

कार्यक्रम से एक दिन पहले स्वाति ने देर रात कर्नल शर्मा को अचानक एक गुजारिश की।

सर । ये बाहु फोर्ट के पीछे जो कालका कॉलोनी है ना। हमें यहां तलाशी करवानी चाहिए । और वहां थोड़ी नफरी भी तैनात करनी चाहिए ।

क्यों कोई खबर है क्या तुम्हारे पास। तुमने देखा भी है वो इलाका। धारावी से कुछ कम नहीं है वो। वहां इतने घर है कि तीन दिन तक भी तलाशी खत्म नहीं होगी।

मुझे पता है सर। कोई पुख्ता खबर तो नहीं है लेकिन आज ही दो लोगों ने फेसबुक पर अपनी फोटो डाली है जिसमे उनकी लोकेशन कालका कॉलोनी है। पीछे बाहु फोर्ट भी नजर आ रहा है। ये दोनो कुलगाम कश्मीर से है और हमेशा आतंकियों के पक्ष में ही बात करते है। हम काफी दिनों से इनको सोशल मीडिया पर ट्रैक कर रहे हैं। हो सकता है उन्हे कुछ पता हो। हो सकता है कि मेरा अंदाजा गलत हों सर पर फिर भी मेरे ख्याल से यहां सुरक्षा बलों की थोड़ी हरकत दिखाना जरूरी है।

देखो तुम्हारी बात से मैं कुछ खास मुत्मयीन नही हुआ हूं लेकिन चलो फिर भी पुलिस और आर्मी का वहां एक जॉइंट ऑपरेशन करवाता हूं। आखिर ये इतना बड़ा कार्यक्रम है कि हम किसी को कोई मौका नहीं दे सकते।

खैर उस इलाके की तलाशी में तो आतंकियों का कोई सुराग नही मिला लेकिन शहीद स्मारक का आयोजन बड़ी धूम धाम से सफलता पूर्वक संपन्न हुआ । राज्य के गवर्नर समेत कई उच्च अधिकारियों ने हिस्सा लिया ।

और कर्नल शर्मा ने चैन की सांस ली। आला अफसरों ने उनको सुरक्षा बंदोबस्त के लिए मुबारकबाद जो दी थी।

जैसे जैसे वक्त बीत रहा था वैसे वैसे स्वाति के दिमाग में नई नई तरकीबें इजाद हो रही थी। नई टेक्नोलॉजी के कारण खबर हासिल करने के बेशुमार रास्ते खुल गए थे और स्वाति इन सब को आजमाना चाहती थी। कभी वो आतंकवादियों के मोबाइल फोन को बग करने का सोचती तो कभी उनके समर्थकों के कॉल रिकॉर्ड का विश्लेषण करती । ऐसा नहीं था कि इन सभी तरकीबों से उन्हें हर बार सफलता मिली हो लेकिन उसकी इस तकनीकी सोच से उसकी देखा देखी यूनिट के बाकी लोग भी जरूर इसी तरह के नए नए तरीके इख्तियार करने लगे थे। किसी की शिनाख्त करने से ले कर किसी को ट्रैक करने जैसी कई कार्यवाहियों में स्वाति की टीम से मदद ली जाती । उनके इसी महत्व को देखते हुए उसकी टीम की संख्या भी अब चार से बढ़ कर दस हो गई थी।और साथ में उन्हें कुछ नए कंप्यूटर और उपकरण भी मिल गए थे।

तकरीबन एक महीने बाद स्वाति को कर्नल शर्मा ने दफ्तर में बुलाया।

स्वाति के अंदर आते ही उन्होंने उसकी तरफ एक फाइल सरकाई।

पता है ये क्या है।
नो सर।

पिछले हफ्ते श्रीनगर में जैश ए मोहम्मद का एक कुख्यात कमांडर पकड़ा गया। कारी यासिर।

ये उसकी इंटेरोगेशन रिपोर्ट है। उसने ये बताया है कि उन्होंने बाहु फोर्ट वाले कार्यक्रम के दौरान हमला करने की योजना बनाई थी। और वो कालका कॉलोनी में ही रुके थे। लेकिन ऐन वक्त पर हमारे सर्च ऑपरेशन से वो इधर उधर बिखर गए और अपनी योजना को अंजाम नहीं दे पाए।

गुड जॉब स्वाति। तुम अगर जोर ना देती तो शायद गड़बड़ हो जाती।

थैंक्यू सर। वैसे इट वास जस्ट ए गैस।

मुझे पता है। बट इट वर्क्ड। एक और बात स्वाति। जब तुम्हारी पोस्टिंग आई थी तो मैने उसको रद्द कराने की कोशिश की थी। मुझे हमारी यूनिट में किसी महिला अधिकारी का आना कुछ मुनासिब नहीं लग रहा था। लेकिन मुझे खुशी है कि तुमने मुझे गलत साबित किया । पर याद रखना कि अभी तो शुरुआत है। ये सफर बहुत लंबा है। और दुश्वार भी। गुड लक एंड कीप अप द हाई स्पिरिट्स।

स्वाति उनके दफ्तर से बाहर निकल कर कुछ ही कदम चली थी कि उसे सामने से आते हुए मेजर चतुर्वेदी ने टोक दिया।

हां भई । लगता है आज फिर से शाबाशी बटोर लाई हो सीओ से। यार तुम्हारा अच्छा है । यहां बैठ कर कंप्यूटर पर नाम कमाए जाओ और वहां जंगल छान छान कर हमारे घुटनों की ग्रीस खत्म हो गई है।

ये सुनकर स्वाति बस मुस्करा दी थी। और इस मुस्कुराहट में खुशी की बजाय नजरअंदाजी साफ झलक रही थी।

अब तक वो समझ चुकी थी कि इस कभी न खत्म होने वाली जंग में उसे खुद को किसी के सामने हर पल साबित करने की कोई जरूरत नहीं है।

वो अपने काम से खुश थी ।उसकी यूनिट को उस पर गर्व था और उसके लिए बस यही मायने रखता था।

One thought

  1. Honest depiction of important role played by young women in breaking the glass ceiling in male dominated domains.

Leave a Reply