Love Jihad– story by an officer

By Col Sushil Tanwar

A well decorated officer from the Indian Army, with extensive experience in Kashmir

Original story in Hindi is posted below the English translation (translated by Levina)

Naveed Ahmed aka Abu Furkan, 24 years old, was born to a poor family in Sargodha, Pakistan. He was the youngest of the 6 siblings (4 brothers & 2 sisters). At a very young age itself, his father admitted him to the religious school near his home.

He was about 12 years old when a huge gathering was organized in his city, a famous Maulavi from Lahore was invited to grace the occasion. The Maulavi Sahab’s speech on Jihad that day, had charged the atmosphere in Sargodha. The man was hardly bothered about how the mention of Jihad in Kashmir & Afghanistan, could alter the fates of young boys in the gathering—who were so ignorant that they hardly knew the difference between the Pakistani cities Lahore and Karachi, let alone Kashmir and Afghanistan.

This was the first time Naveed had heard of Kashmir. After the gathering, his father enlisted Naveed into a group. Neither did Naveed ask his father about the list, nor did his father ever bother to tell him the reason he was enlisted. Among the villagers of Pakistan, jihad was considered holy and martyrs were heroes to them. Albeit, it’s a completely different story that no one ever asked the rich to send their children to wage jihad.

The religious school close to Naveed’s home was known to send large number of boys from Pakistan to different parts of the world. Every other day the boys would pray for a martyr from the school. Naveed was just 19 when he was recruited by Lashkar-E-Taiba. By now Naveed lived with the sole desire to make his peopleproud of him, and his family had no objections to his desires.

With his few friends Naveed was packed off to Muridke, a place close to Lahore, also known as the head quarter of Lashkar. From Muridke, Naveed and 100 others were taken to Manshera– where safely ensconced in the mountains, was a training camp of Lashkar. At this training camp, the young boys were trained for 3 months and the training was called daura-e-aam, when they were taught to use assault rifles and other weapons. Every evening boys were shown videos from Kashmir.

Naveed had soon become the apple of the every trainer’s eye, for he was stronger and smarter than the rest. So on the day his training finished, he was invited by the in charge and informed that– due to his good performance he has been chosen for daura-e-khaas, a special training.

During the special training that lasted 1 month, Naveed was taught how to use heavy weapon & how to create  mined tunnels. Sporadically Pakistan Army’s officers would visit the training camp.

After the training was over he was sent back home, and asked to wait for call from Lashkar’s office. This is how Lashkar-e-Taiba readies it’s men– the mujahids. A few days before the boys are to cross the LOC (line of control), they are called back and sent to launch pads—the place where those who infiltrate into India are grouped and readied for their final mission.

After spending a few days with the family, Naveed was called back. “Mubarak to all of you, finally the day you were waiting for has arrived. You will be soon sent to Athmuqam in Azad Kashmir (called Pakistan occupied Kashmir by India). From there you will be launched to the other side. Our men are eagerly waiting for you on the other side of border”.

Athmuqam is a small town near the LOC, it has been established so close to the border that it’s not uncommon for the stray bullets from Indian side to reach the town. Near the Pakistan Army’s camp in the town, a 2 storeyed building was owned by Lashkar. From here the arrangement for “launching” the terrorists was executed.

 Few years ago, Indian Army had fenced the LOC with heavy coils of barbed wire so it had become difficult to infiltrate into India.

At Athmuqam, Naveed met Adnan Bhai, the in charge, he was an ex-terrorist who had once upon a time infiltrated into Kashmir and after spending few years there, he had returned to Pakistan. He was considered a hero by the Army and the civilians. 3 days before they were to be launched Adnan gave them instructions on how to infiltrate across the border. He gave special instructions to Naveed—“ 6 others will accompany you, you will be given a GPS which has the location data fed into it, you will also be given the equipment to cut wires. And listen, you will also be accompanied by 2 Kashmiris, who know the route, incase Indian Army detects your position, ensure the Kashmiris are martyred”. Naveed was puzzled.

Adanan then told him a little secret—”when Kashmiris are martyred, it makes headlines.”

“Also remember – that if your group faces firing from the Indian side after you cross the wires, then do not return. Try and reach the destination. Once you get there, live in the jungle, do not stay at any Kashmiri’s house. You never know when you might end up at a Mukhbir’s (spy) place”. This baffled Naveed. He thought to himself—“if we are going to Kashmir to save our Kashmiri brethren then why would they rat us out?”.

3 days after he was given instructions, Naveed and his group infiltrated into India with great difficulty. They reached the thick forests of Huphruda. There his group merged with a group 20 other terrorists of Lashkar. The forest was spread across a huge area so it was difficult for the forces to locate them.

Days were tough for Naveed, his new in-charge Waleed would not let him go out of the jungle. A part of their group which had gone out was shot down in an encounter by the forces. He soon realized the “shell life” of a terrorist was just 1-2 years long, or lesser. Whenever forces did patrolling in their area, they would move up on the hills or would go and hide in a hide-out near the nalah, and then pray to the almighty to save them. Naveed was lucky that he was never cordoned by the forces. Soon his other friends who had accompanied him from Pakistan were eliminated by the forces in operations. That day he wanted to go and help his friends, but he was not allowed to. But his enthusiasm to save his friends earned him a special place in the in-charge’s heart. Since then he became one of the most trustworthy men of Waleed.

Meanwhile, Naveed kept wondering “ What kind of Jihad is this? We have to keep ourselves hidden in the jungle, once a day we have to call up the Muzaffarabad control station, then in the middle of the night we have to go and get food from a nearby house. Is this really jihad where we have to fear our own brethren, who are apparently Mukhbir (spies)? “. Naveed was not liking this.

His frequent trips to the nearby villages earned him many friends, and soon he was known by the sobriquet Abu Furkan.

It is around the same time that Colonel Rishabh Chaudhary got posted in the valley. He was an officer who was known for his skills, soon by his ways, he had won the heart of awam (populace), forces, and politicians alike. His excellent networking skills helped his team gain myriads of successes against terrorists. But Abu Furkan somehow managed to evade his traps. This had irked the officer.

Rishabh contacted his longtime friend from J&K Police, SP Javed, who was then posted in Handwara. Javed told him that the Police had also not been locate Abu Furkan and that they were under tremendous pressure. Col Rishabh being a man of strategies, decided to map places where Abu Furkan was spotted. Soon he had a huge map with colored threads and pins. He then asked his team to track the call records of the mobile towers in the region he had marked. He was sure that Abu Furkan must be contacting someone. 

And then one day, his team member Ashutosh had a good news for him—” Sir we have found a trace. He regularly calls on 94*******0, the calls don’t last more than 10 or 15 seconds, the number belongs to a certain Rukhsar Bano”.

Profile: Rukhsar Bano, 24 years old, teacher in a private school, did her graduation from Handwara, B.Ed from Srinagar, her father was a government employee in the education department, and she was from a well settled family.

Rishabh and his men tried following her for days, yet they found no traces which lead to Abu Furkan. And then one day out of absolute frustration Col Rishabh decided to talk to Rukhsar. “Hello, is this Rukhsar? I am Col Rishabh, from Kupwara Army camp. I need to talk to you.”

“Mr Rishabh, I do not want to talk to any Army man. Please do not call me again”. The call was disconnected. It infuriated the colonel, but he knew Rukhsar was the only person who could lead him to Abu Furkan. So he continued tracking her.

And then one day he decided to call her again, but this time he decided to try a shock and awe method at her.

“Hello Rukhsar, Colonel Rishabh Chaurdhary speaking”.

“Officer, I told you I don’t..”

“Rukhsar this is about Abu Furkan”.

“Abu Furkan?…. I … I do not know any… Abu”. Rukhsar showed signs of panic.

“Rukhsar I can help you, I will text you my number, you can approach me anytime. And you can trust me.”—He disconnected the call. Col Rishabh wasn’t sure if this was the right step to take but then he thought to himself “something is better than nothing”, my team has so far not been able to trace Abu. If this works, then Abu might land in our trap.

On the other side Rukhsar was in a dilemma. She knew she had lied to the Colonel and that he knew it. Rukhsar knew Abu Furkan very well. During a CASO (cordon and search operation) operation by the forces, Abu Furkan and his 2 friends had taken shelter at her house. They were brought to her place by Tareeq Mir of their village. She was angry at the man; if the forces came to know the terrorists were hiding at her home, then the whole house would have been destroyed in the encounter. But her father asked her to stay quiet—for religion’s sake. She was also asked to to look after the new guests. That was the first day Rukhsar talked to Abu Furkan. From then on Abu would make excuses to come to her place. Soon the casual chit chat with him turned into something very serious. She had fallen for Abu Furkan. He too loved her dearly.

She was a well educated and a beautiful woman, there was no logic behind falling for a terrorist who lived in the jungle. But she knew Abu cared for her more dearly than his own life, and that worried her. She knew that no terrorists lasted in the valley for long, if Abu stayed in Kashmir for any longer then he too might meet an unfortunate fate. Meanwhile, she was very disturbed by how her family had turned a blind eye at the frequent visits of the terrorists to their house. Money, religion or power, she didn’t know the motivation behind this change in attitude of her family members. They could have all landed in trouble soon.

But the officer who called her— he sounded trust worthy.

A week after Col Rishabh’s call Rukhsar called him back. All those strategies that Col Rishabh was working inside his head, could finally be put to test. He asked her to meet him at Coffee café day in Srinagar. It was so crowded that nobody would have recognized her, he managed to convince her. “Friday, during the Jumma prayer at 2pm”—they both agreed to meet.

He had scanned the place well before he entered the café, Col Rishabh sat at one corner of the café from where he could continue to keep a tab on all the entries into the café. Though his pistol in his pocket was not letting him sit comfortably. Soon Rukhsar came in. She knew the man who looked well-dressed, was Col Rishabh.

“I hope you did not have any trouble finding this place”.

“No, officer. I had done my B.Ed from Srinagar, so I know this place well”.

“Rukhsar, I can’t tell you how happy I am that you agreed to meet me. I know Abu Furkan is in contact with you, but I do not how and why. I can tell you one thing that this road leads to disaster”.

Rukhsar kept listening to the officer, she didn’t have to add anything, for she knew he was right. Col Rishabh was also being considerate towards her, this was their first meeting and this was very important. His aim was to build trust. Fortunately for him the meeting ended well. While returning, Col Rishabh’s words kept reverberating inside Rukhsar’s head. She wanted Abu Furkan to give up a life of terrorist and lead a normal life with her. She had mentioned this to him once but he asked her –“who has been feeding this into you? Why do you sound so different these days?”

“My love, I want to live with you, I can not stay away from you. But this can happen only if god wills. Till then we will have to wait”. Abu Furkan’s words just added to Rukhsar’s misery. While on the other side Col Rishabh was winning her trust. He was sure that both Abu and Rukhsar were in love, but he wanted to know to what extent Abu would go for her.

“Rukhsar convince him to leave terrorism. Both of you can live happily together. You do know that Abu Furkan is not the first to arrive from Pakistan, many like him have come and got killed. But why do they do this? They roam in the jungle with their guns and hide from the people for whom they had come to wage a war. What is their purpose then?”

“But sir, it’s not easy to convince him. Why will he agree to this?”.

“If he really loves you, he will give up everything for you. But if he doesn’t then it means he never loved you. And then things will become easier for us. We will eliminate him like others.”

“No… don’t. Don’t do that. I will try my level best to convince him”. Rukhsar could not fathom the thought of losing Abu.

“Rukhsar, convince him and I promise you that for next 2 weeks, we will not go hunting for him. We will spare him, if he gets trapped. I assure you this”.

Rishabh had not taken any permission and it was wrong on his side to make such promises without the consent of his higher ups. But Rishabh was confident that Abu would keep himself safe for Rukhsar, if he really loved her.

On many occasions earlier, myriads of love stories ended tragically when the terrorist boyfriend cheated on his girlfriend. The girl would then give away his hide out. A revenge!

“Hello Rukhsar, how are you love?”

“Abu I wanted to tell you something. I met a very nice Army officer and I think…”

“What? How did you meet an Armyman? Did those rascals trouble you?” Abu sounded furious.

“No… no… he’s a good man, I think he can help us. You should talk to him once”.

“Are you crazy? This must be a trap, they will kill me, how did you meet him?”

It was tough for Rukhsar to convince Abu, and Col Rishabh’s presence in their life was taking a toll on their relation, she revealed it to Col Rishabh in their next meeting.

“I understand Rukhsar. Do me a favour, keep this mobile and sim. Use it only to call me & Abu”.

From then on Col Rishabh could listen to their calls. He understood Rukhsar was trying her best to make Abu contact him. And then finally one day…

“Hello Furkan, congratulations that a girl like Rukhsar loves you so much”.

“Congratulations to you too officer, you managed to trap that innocent girl. You could have spared her.”

Abu was definitely not happy talking to Col Rishabh and he made it very evident.

“Now that we have finally managed to talk to each other, I hope to meet you soon”.

Abu did not give his consent. So Col Rishabh had to win his trust. For next few days the officer ensured that whenever Abu Furkan’s name came up, Col Rishabh avoided sending his team to the site. He had the assistance of his friend from J&K Police, SP Javed.

Furkan and Rishabh talked for a few more times and finally Col Rishabh asked Abu Furkan to meet him. But Srinagar was out of bounds for Furkan so they finally decided to meet in Baramulla. This was going to be tough for both of them. They both did not trust each other. That day, Furkan reached a little late at the venue with Rukhsar, for he had been scanning the place.  During the discussion, Col Rishabh tried explaining everything anew. He told them that if they help him, then he will ensure that both of them live together happily, in Pakistan.

It sounded so unrealistic, yet they both wanted this dream, that Col Rishabh had promised to fulfil, to come true.

Furkan, had already begun to make his plans. The officer’s plan was not as unrealistic as it sounded initially, he realised later. Back in the village he had seen 3-4 Mujahids return from Kashmir and leading a respectful life. He also wanted to give it a try. It appeared unattainable initially … but not anymore. He had made up his mind.

On the other side Col Rishabh was busy ensuring that Furkan was safe and for that he wanted to ensure that he and his friend, SP Javed, were on the same page. Javed was adamant that while they help Furkan, the terrorist should also help them to eliminate a few terrorists. Javed told Col Rishabh—”it should be an equal give and take. These rascals cannot be trusted.”

Javed’s words kept echoing in Col Rishabh’s mind.

Now it was turn to convince his boss, his commander in Badami Bagh.

“No way Rishabh, we are not letting him go back. He must have fired at so many of our men in these years when he was here. And you want to send him back ..safely? Why? Because he has found love of his life in Kashmir? What’s wrong with you?”.

“Sir, please understand, we will send him back at our terms. And we will get our work done while he’s still in the enemy nation”.

“Alright..but what’s your plan”

Col Rishabh had to layout his plan very smartly, while hiding the fact that he had already met Furkan.

Meanwhile, Furkan had begun helping the forces. Rukhsar’s and Col Rishabh’s meetings continued. They had to execute their plan with utmost precaution, or else they would have landed in a hot soup.

“It must be tough for you Furkan, to cheat on your friends for us”—Rishabh asked one day.

“Yes, sir it is tough. But now that I look at it, I realise that we were brainwashed into believing that our brethren in Kashmir needed our help and that they were being massacred. Truth is, they don’t need us”.  Naveed then asked Col Rishabh “Don’t you feel bad? For helping us? “.

“Naah, this is how we function Naveed. Our job is to finish terrorism, if that requires us to keep a terrorist alive, then so be it. We have to ensure our populace’s safety at any cost. That is our primary goal, rest is secondary”.  

Calling Abu Furkan by his real name Naveed was intentional, Col Rishabh wanted to erase the terrorist mindset from within Naveed’s conscious.

For next few months, the forces carried out many successful operations, courtesy: Naveed. Finally, Col Rishabh met his commander again.

“Sir, when he goes back across LOC he will have to carry an AK-47”.

“What? How can we allow this stupidity? He will fire at our men”.

“Sir, if we don’t’ let him take it, then when he reaches across the border, Lashkar’s men will be suspicious. You know it”.

Commander agreed to let Naveed take an Ak-47 with him. Miracles do happen!

After preparing well, Rishabh and Naveed started from Srinagar. Rukhsar was crying uncontrollably, but before her tears stopped them, they left for Gurez.

It was a long and tough journey to Gurez. After reaching the place they had to walk for few hours. Then they reached a nalah.

“2 Km from here is the LOC. And then you will see the Losar village, which is your destination. You have to walk along the nalah. You will see 2 of our posts right over the nalah. And then on the other side it will be followed by your Army’s posts. Be careful. “

“Yes sir, I have informed my men on the otherside. I hope your men don’t get me and turn me into tomorrow morning’s headline— a mujahid has been eliminated”.

“No time for jokes Naveed. Take care of yourself. And don’t forget the tasks I gave you, after reaching there”.

With that Naveed began his final journey back home.

Col Rishabh waited on this end for a few hours. Thankfully, no gun shots were heard. Deep in his heart he hoped Naveed would reach his home safely.

For next few days there was no communication from Naveed’s side. Rukhsar would call Col Rishabh and cry, he had by then got used to consoling her. And then one day she came to meet him at the office—“Sir Naveed is back home and happy. Initially few were suspicious but he somehow managed to convince them.”

“I plan to join him soon”.

“Waah! Congratulations! You already have a passport, you merely need to apply for visa. But be careful Rukhsar”.

On the day she was leaving to Pakistan, Rukhsar asked Col Rishabh—“Should I go to Pakistan?”.

“I leave that decision up to you. You’re a smart woman. But don’t forget Naveed took all the risk just for you. And that he will be waiting for you”.

Rukhsar knew she could trust Col Rishabh like a good friend. His words meant a lot to her. She left with a lot of tears in her eyes.

Rukhsar and Naveed were now together and leading a good life, initially they had some difficulties, but they overcame it.

On the other side, Col Rishabh waited for their message. But all in vain.

“We told you Rishabh. But you were adamant at letting the love birds free”. Commander told Rishabh.

It did upset him. Soon when the snow melted, Indian forces carried out a very successful operation, eliminating 8 Lashkar’s men, without any difficulty. The success was followed by few more.

“Congratulations Rishabh, the operations were successful only because the information was correct. How did you manage it?”.

“I told you sir, it’s better to send Abu Furkan back to his country, than keeping him here”. Col Rishabh gave his mysterious smile.

*********************************************************************


नवीद अहमद ऊर्फ अबू फ़ुरक़ान । उम्र तकरीबन 24 साल। सरगोधा पाकिस्तान के एक बेहद गरीब परिवार में उसका जन्म हुआ था। चार भाईयों और दो बहनों के लाडले नवीद को उसके घर वालों ने छोटी सी उम्र में ही गाँव के नज़दीक वाले मदरसे में दाखिल करा दिया था।

वो तकरीबन बारह साल का होगा जब उसके गाँव में एक बहुत बड़ा दीनी जलसा हुआ था। लाहौर से एक बहुत मशहूर मौलवी साहिब तशरीफ लाए थे उस जलसे में तक़रीर करने के लिए।

उस दिन नवीद ने पहली बार कश्मीर का नाम सुना था। मौलवी साहिब ने बड़े ज़बरदस्त और जोशीले अंदाज़ में जिहाद की बात की थी ।उन्हें इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ रहा था कि जिन कच्ची उम्र के लड़कों को वह कश्मीर , अफ़ग़ानिस्तान और पलिस्टाइन की कहानियां सुना रहे हैं उन बेचारों को तो शायद लाहौर और कराची के बीच का फर्क भी नहीं मालूम था।

जलसे के बाद नवीद के वालिद ने मौलवी साहिब के साथियों द्वारा बनायीं जा रही एक सूची में उसका भी नाम लिखवा दिया था। नवीद को नहीं पता कि ऐसा उसके वालिद साहिब ने क्यों किया । न कभी उसने पूछने की ज़रुरत समझी और न उसके वालिद ने कभी बताया ।

वैसे भी पूरे पाकिस्तान में मानो एक होड लगी थी जिहाद में शिरकत करके अपने आप को अल्लाह के सामने साबित करने की । हाँ ये बात अलग है कि इस जिहाद में शामिल होने वाले ज्यादातर लोग क़ौम के बेहद गरीब तबके से ताल्लुक रखते थे।


नवीद के गांव वाला वह मदरसा भी बहुत मशहूर था । कहतें हैं कि वहां से जितने नौजवान जिहाद के लिए दुनिया के अलग अलग कोनों में गए थे, उतने शायद सारे पाकिस्तान के किसी मदरसे से नहीं गए होंगे। हर दुसरे दिन वहां किसी शहीद का जनाज़ा पढ़ा जाता ।
नवीद उन्नीस बरस का होगा जब लश्कर तोइबा के लोग रज़ामंद नौजवानों के लिए तंज़ीम में शामिल होने का पैगाम लेकर आये आये थे । तब तक दिन रात जिहाद की बातें सुनकर नवीद के दिल में भी कुछ कर गुजरने का जज्बा पैदा हो गया था । उसके घर वालों को भी नवीद के इस नए शौक़ पर कोई ऐतराज़ नहीं बल्कि गुमान था ।
बस इसी तरह नवीद अपने गांव के चन्द लड़कों के साथ लाहौर के नजदीक मुरिदके शहर पहुँच गया था।वहीँ लश्कर ए तोइबा का सबसे बड़ा मरकज़ है । नवीद समेत तकरीबन सौ नौजवान लड़कों को वहां से मनशेरा जिले के उस इलाक़े में ले जाया गया जहां पर पहाड़ियों के बीच एक घने जंगल में लश्कर ए तैयबा का बहुत अहम ट्रेनिंग सेंटर था।
यहीं पर नए लड़कों को तीन महीने की ट्रेनिंग दी जाती जिसे दौरा ए आम कहा जाता था। इस कड़ी ट्रेनिंग के दौरान उनको हथियार चलाना, घात लगा कर हमला करना जैसी सिखलाई के साथ साथ दीनी तालीम भी दी जाती । रोज़ शाम को उनको कश्मीर में हो रहे ज़ुल्म के बारे में बताया जाता ।
नवीद जल्द ही अपने उस्तादों की आँखों का तारा बन गया था। बाक़ी सब लड़कों से ज्यादा होशियार तेज और मज़बूत था नवीद।
ट्रेनिंग खत्म होने से चंद रोज़ पहले नवीद को वहां के इंचार्ज ने अपने दफ्तर में बुलाया “ शाबाश नवीद । आपने खुद को हर तरीके से अव्वल साबित किया है। आप जैसे होशियार बन्दों को हम स्पेशल ट्रेनिंग कराते हैं। ख़ास चुने हुए तीस लड़के होंगे उसमें।
दो हफ़्तों बाद नवीद की स्पेशल ट्रेनिंग शुरू हो गयी। एक महीने की इस ट्रेनिंग को दौरा ए खास का नाम दिया गया था। इसमें बारूदी सुरंग बिछाने और बड़े हथियारों को चलाने पर ज्यादा ज़ोर था। नवीद ने वो सब भी खूब मन लगाकर सीखा। अक्सर जब पाकिस्तान आर्मी के अफसर मुआयना करने वहां आते तो नवीद को उनसे मुखातिब किया जाता ।
ट्रेनिंग खत्म होने के बाद सभी मुजाहिदों को कुछ दिनों के लिए घर भेज दिया गया । लश्कर ए तैयबा की तंज़ीम इसी तरह अपने मुजाहिद तैयार करती थी । कश्मीर में घुसपैठ करने से चंद रोज़ पहले लश्कर के दफ्तर से उनको घर पर पैगाम दिया जाता और फिर उनको लॉन्चिंग पैड में लाया जाता । लॉन्चिंग पैड यानि लाइन ऑफ़ कंट्रोल के नज़दीक वो जगह जहाँ घुसपैठ करने से पहले ग्रुप को इकठ्ठा कर के पूरी तैयारी की जाती ।
नवीद भी बाकी लड़कों की तरह घर वापिस आ गया था । अब उसे बस इंतज़ार था जिहाद में शामिल होने का। उसको कुछ ज्यादा वक़्त नहीं रहना पड़ा अपने घर। कुछ ही हफ़्तों बाद जब लश्कर के लोगों का पैगाम आया तो वो ख़ुशी ख़ुशी घर से निकल पडा था। उसकी माँ भी ग़ज़ब की इंसान थी । उसने अपने बेटे को बस “जा पुत्तर..अल्लाह के हवाले कित्ता” कह कर विदा कर दिया था।
मुरीदके के मरकज में पहुंचने के बाद उनको अगली हिदायतें दी गई ।
” आप सबको मुबारक हो। वो वक़्त आ गया है जिसका आप सब को इंतज़ार था। हम यहाँ से आप सब को आज़ाद कश्मीर भेजेंगे। वहां अथमुकाम शहर के पास में हमारा ऑफिस है। उधर पहुँचने के कुछ दिन बाद आपकी लॉन्चिंग होगी । उस पार मकबूजा कश्मीर में आपके साथी आपका बेसब्री से इंतज़ार कर रहे हैं ।
अथमुकाम नीलम नदी के किनारे बसा एक छोटा सा कस्बा है। लाइन ऑफ कंट्रोल से इतना नज़दीक कि हिंदुस्तानी फ़ौज के गोले अक्सर इस कसबे के बीचों बीच गिरते थे।वहीँ पाकिस्तानी फ़ौज के कैंप के पास एक दूमंजिला इमारत में लश्कर का ऑफिस है जहाँ से वो मुजाहिदों को इंफिल्ट्रेशन के लिए भेजने का इंतज़ाम करते थे ।
वैसे कुछ सालों से सीमा पर लगी तार के कारण लाइन ऑफ कंट्रोल को पार करना बहुत मुश्किल हो गया था ।ऊपर से भारतीय फ़ौज ने अपनी गश्त और मुस्तैदी काफी बड़ा दी थी।
उन दिनों अथमुकाम में अदनान भाई इंचार्ज था। वो कश्मीर में कुछ साल बिताने के बाद वापिस पाकिस्तान आ गया था। इसलिए लश्कर के अलावा बाकी तंज़ीम वाले भी उसकी इज़्ज़त करते थे । पाकिस्तानी फ़ौज से भी उसका अच्छा तालमेल था। वैसे भी पाकिस्तानी फ़ौज की मर्ज़ी के बग़ैर भारतीय सीमा के अंदर घुसना नामुमकिन था ।
वहां दो तीन दिन गुजारने के बाद आखिर वो पल आ ही गया जिसका नवीद और उसके साथी बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थे । अदनान भाई ने नवीद को अलग से बुलाकर समझाया था ।
“ आपके साथ छह साथी बॉर्डर क्रॉस करेगें । जीपीएस में हमने रूट डाल दिया है । तार काटने का सामान चलते वक़्त आपको मिल जायेगा । दो कश्मीरी भाई मजीद और अयूब भी आपके साथ जा रहे हैं । इनको सबसे आगे रखना । इनको रास्ते का अंदाज़ा है। और अगर हिन्दुस्तानी फौज से मुठभेड़ हो गयी तो यही शहीद होंगे।
“वो क्या है न कि जब कश्मीरी शहीद होते हैं तो ज्यादा असर पड़ता है ।
“और हाँ । अगर तार तक पहुंचने से पहले ही वहां से फायरिंग हो जाये तो वापिस आ जाना लेकिन अगर तार के पार पहुंच गए तो फिर कश्मीर के अंदर मुक़र्रर की हुई जगह पर पहुँच जाना । ।ये ध्यान रहे कि रास्ते में जंगलों में ही रूकना है। किसी कश्मीरी के घर में मत जाना। पता नहीं कौन मुखबिरी कर के फौज को बुला लाए।
नवीद अदनान भाई की बातें सुन कर थोड़ा हैरत में पड़ गया था। उसको तो लगा था कि वो कश्मीरियों की मदद के लिए जा रहे हैं । और यहाँ अदनान भाई उसको कश्मीरियों के बारे में ये सब बोल रहा था ।
तीन दिन के मुश्किल सफ़र के बाद आखिर नवीद अपने ग्रुप को लेकर हफरूदा के जंगल में पहुँच ही गया। वहीँ उसका लश्कर के बाकी मुजाहिदों से राफ्ता हुआ । तक़रीबन बीस मुजाहिद वहीँ जंगल में रहते थे। कई किलोमीटर तक फैला था हफरूदा का जंगल ।
जब से कश्मीर में आतंकवाद शुरू हुआ तब से उन दरख्तों ने अनगिनत मौतें देखी थी। वहां के कमांडर वलीद भाई ने उसका बड़ी गर्मजोशी से स्वागत किया और उसके ग्रुप को दो हिस्स्सों में बाँट दिया। नवीद और उसके साथ दो साथी वहीँ वलीद भाई के पास रुक गए और बाकी साथियों ने आगे का सफर शुरू किया।
तब से नवीद अपने साथियों के साथ उन्हीं जंगलों में रहने लगा । वो इतना घना जंगल था कि फ़ौज बगल से भी गुज़र जाये तो वो उनको नज़र नहीं आते थे । जब कभी फ़ौज का सर्च ऑपरेशन होता तो वो पहाड़ी चट्टानों और नालों के बीच बनाए हुए हाइड आउट में घुस जाते और अल्लाह से दुआ करते कि वो फ़ौज को नज़र न आयें।
नवीद अक्सर सोचता था कि ये कैसा जिहाद है। पूरे दिन जंगल में छुपकर कर बैठना और दिन में एक बार पाकिस्तान में मुज़्ज़फ़राबाद स्तिथ कण्ट्रोल स्टेशन से बात कर के अपनी सलामती के बारे में बताना । फिर रात को चोरी छुपे किसी घर में से खाना लाने जाना । हर वक़्त फ़ौज से बचने की कोशिश करना। ये सब अच्छा नहीं लगा था नवीद को ।
पहले कुछ दिनों तक तो वलीद भाई ने उसको जंगल से बाहर जाने की इज़ाज़त नहीं दी ।
“देख अभी तुम नए हो ।यहाँ गांव में बड़ी एहतियात से जाना पड़ता है। हम सिर्फ भरोसे वाले घर में ही जाते हैं ।बहुत मुखबिर है यहाँ। धीरे धीरे तुम भी सीख जाओगे ।”
इसी तरह वक़्त गुजरता गया । सब ये जानते थे कि कश्मीर की वादियों में एक आतंकवादी की शेल्फ लाइफ ज्यादा नहीं होती । एक से दो साल के अंदर सभी मारे जाते हैं । उस दौरान नवीद के कई साथी भी मारे गए लेकिन उसकी किस्मत अच्छी थी।वो कभी भी फ़ौज के घेरे में नहीं फंसा।
एक दिन सुबह सुबह नवीद की नींद दूर चलती हुई गोलियों की आवाज़ से खुली। लगता था की फ़ौज का कोई बड़ा ऑपरेशन चल रहा है । जल्दी से इलाक़े में मौजूद अपने साथियों से राफ्ता किया तो पता लगा कि दो साथी फ़ौज के घेरे में फंस गए है।
इस पूरे दौरान नवीद बहुत बेचैन रहा । वो चाहता था कि सब मुजाहिद मिलकर फंसे हुए साथियों को फ़ौज के घेरे से निकालने की कोशिश करें. लेकिन वलीद ने उनको पहले अपने आपको महफूज़ रखने को कहा था ।
उस दिन नवीद का जोश और हिम्मत देख कर वलीद काफी प्रभावित हुआ। धीरे धीरे उसको अपना सबसे भरोसे मंद साथी बन लिया था। वैसे भी पाकिस्तान से आये मुजाहिद कश्मीरी साथियों पर कम भरोसा करते थे और नवीद तो सबसे होशियार भी था। जंगल के रास्तों का इस्तेमाल करना व छुपने की जगह बनाना। मुज़्ज़फ़राबाद वाले ऑफिस से राब्ता करना और उनकी हिदायतें बाकी साथियों को समझाना । सभी कुछ नवीद के जिम्मे आ गया था । धीरे धीरे वो आस पास के गाँव में भी जाने लगा था । सारे लोग अब उसको अबू फ़ुरक़ान के नाम से जानते थे । कुछ ही वक़्त में बड़ा मशहूर हो गया था वो।

उन्हीं दिनों कश्मीर में कर्नल ऋषभ चौधरी की पोस्टिंग हुई.। ऋषभ जब वादी में पहुंचा तो वो बहुत उत्साहित था। उसने जल्द ही अपने काम से लोगों का दिल जीत लिया था। चाहे अवाम हो या फिर नेता और पुलिस । सभी से ऋषब ने अच्छे तालुक बना लिए थे। सबके साथ मिल जुल कर रहने की गजब की काबिलियत थी उसमें।
इसी कारण काफी सफलता मिलने लगी थी ऋषभ की यूनिट को आतंकवादियों के खिलाफ । वैसे तो ऋषभ को तकरीबन हर आतंकी के बारे में कुछ ना कुछ खबर मिल रही थी और उनमें से बहुतों को फौज उनके अंजाम तक पहुंचाने में कामयाब भी हो गई थी। लेकिन फुरकान अब तक फ़ौज की गिरफ्त से बिलकुल बाहर था। बहुत नाम तो था फ़ुरक़ान का लेकिन कोई सुराग नहीं था ।
फ़ौज ने कई सर्च ऑपरेशन किये पर हर बार फुरकान उनके चंगुल से निकल जाता। पता नहीं कैसे उसको फ़ौज के आने से पहले ही खबर लग जाती । ऋषब की काफी कोशिशों के बावजूद भी फुरकान का कोई पता नहीं लग रहा था।
वैसे अब तक उस इलाक़े में सब ये तो भली भांति समझ चुके थे कि आत्नकवाद की लड़ाई भी किस्मत का खेल है । कभी कभी महीनों कुछ हाथ नहीं लगता और कभी मिनटों में पासा पलट जाता है। एक ही पल में जान बच भी सकती है और एक पल ही काफी होता है जान गंवाने के लिए।
उस दिन हल्की हल्की बर्फ पड़ रही थी जब ऋषभ ने हंदवाड़ा पुलिस के एस पी जावेद को फ़ोन किया ।
“ बस थोड़ी देर में आ रहा हूँ जावेद। तुम्हारे साथ गरम गरम कहवा पीने का दिल कर रहा है “
“ आ जाओ सर। रेजिडेंस पर ही हूँ.।आपको तो केहवा ही पिलाना पड़ेगा। गोश्त तो आप खाते नहीं हो।
बातों बातों में फ़ुरक़ान का भी ज़िक्र हुआ था। जावेद भी बहुत परेशान था ।
“इसका कोई पता ही नहीं चलता सर। कोई कुछ बताता ही नहीं। पता नहीं अपने लोगों के साथ कैसे राफ्ता करता है ये फुरकान। इसके किसी बन्दे का फ़ोन नंबर ही मिल जाये तो ट्रेस कर लें। बहुत प्रेशर है सर। इसको जल्दी निबटाना पडेगा ”
वापिस लौटते वक़्त पूरे रास्ते ऋषभ के कानों में जावेद की बात गूँज रही थी। यूँ तो कुछ नया नहीं कहा था जावेद ने । पिछले कुछ सालों में मोबाइल फ़ोन ट्रेसिंग से बहुत सफलता हासिल हुई थी सुरक्षा बलों को। इसलिए आतंकवादी भी अब फ़ोन का इस्तेमाल करते वक़्त बहुत एहतियात बरतने लगे थे।
” कोई तो होगा जो उससे बात करता होगा। उस से मिलता होगा।
बस यही सोच कर उस दिन से ऋषभ ने अपनी टीम के साथ मिल कर एक नए सिरे से फ़ुरक़ान का सुराग लगाना शुरू किया । वो घंटों नक़्शे के सामने बैठा रहता । पिछले चंद महीनों में जहाँ जहाँ फुरकान की मौजूदगी की खबर आई थी उस इलाक़े की निशानदेही करने के बाद वहां पर हर संदिग्ध इंसान की शिनाख्ती की गयी। उस इलाके के मोबाइल टावर के कॉल रिकॉर्ड। वहां आने जाने वाली गाडियों की जानकारी। लोगों से बातचीत। इस सब में दिन कैसे बीत रहे थे कुछ पता ही नहीं चल रहा था। ऋषभ के छोटे से दफ्तर में टंगा बड़ा सा नक़्शा उसके जुनून की चश्मदीद गवाही दे रहा था। उस पर लगे आड़े तिरछे निशान और चिपकाई हुए तस्वीरें । कई तरीके के पिन और रंग बिरंगे धागे। मानो नक़्शा नहीं कोई जंग का मैदान हो ।
फिर कई दिन की मेहनत के बाद ऋषभ की टीम को आखिर एक छोटा सा सुराग हासिल हुआ।
“सर ये फ़ुरक़ान जब भी किसी इलाक़े में होता है तो उस इलाके के मोबाइल टावर से एक नंबर पर हमेशा कॉल जाता है।
उसके साथी आशीष की उत्सुकता से भरी आवाज़ इस सुराग की अहमियत बयां कर रही थी ।
” सर वैसे तो हर इलाके से अलग अलग नंबर का इस्तेमाल होता है लेकिन जिस नंबर को कॉल किया जाता है वो नहीं बदलता है। और देखिये सर। कॉल दस पंद्रह सेकंड से ज्यादा नहीं चलती .जैसे बस एक इशारा हो। इस नंबर को हमें चेक करना चाहिए 9419004641 बीएसएनएल का नंबर है सर । किसी रुखसार बानों के नाम पर है ।
“गुड । इसको और डिटेल में चेक करो और अभी किसी से इसका ज़िक्र नहीं करना।
ऋषभ को अब एक उम्मीद की किरण नज़र आ रही थी। अगले दिन ही रुख्सार बानो की पूरी जनम कुन्डली ऋषभ के सामने थी । 24 साल की रुख्सार एक प्राइवेट स्कूल में टीचर थी। उसने कुपवाड़ा डिग्री कॉलेज से ग्रेजुएशन करने के बाद श्रीनगर से बीएड किया था ।उसके पापा सरकारी मुलाजिम थे। एजुकेशन डिपार्टमेंट में । बड़ा अच्छा खासा घर था उनका हंदवारा शहर से थोड़ी ही दूर।

कई दिनों तक रूखसार की तफ्तीश की गयी। बहुत मुश्किल था फ़ौज के लिए किसी खातून का चोरी छुपे पीछा करना और शायद इसलिए उनको फुरकान के बारे में कोई सुराग नहीं मालूम हुआ। पता नहीं वो फुरकान से कहाँ मिलती थी? या फिर मिलती भी थी या नहीं ? कई ऐसे सवाल थे जिनके जवाबों की ऋषभ को तलाश थी।
फिर एक दिन उस ने तय किया की वो रुखसार से सीधा बात करेगा। इस के अलावा अब कोई चारा भी नहीं था उसके पास।
“हेलो । जी आप रुख्सार बानो बोल रही हैं ? मैं कर्नल ऋषभ चौधरी। कुपवाड़ा आर्मी कैंप से । आप से कुछ बात करनी है “
“ देखो मुझे आपसे या किसी भी आर्मी वाले से कोई बात नहीं करनी है। और आप मुझे ऐसे कैसे फ़ोन कर रहे हैं। “
उस आवाज़ की खूबसूरती और बेरूख़ी दोनों ने ऋषभ को हैरत ने डाल दिया और इस से पहले वो कुछ बोल पाता रुखसार ने फ़ोन काट दिया था ।
अब तो ऋषब की दुविधा और बढ़ गयी। उस से इस तरह का बर्ताव तो आज तक किसी ने भी नहीं किया था ।पहले तो उसने मन में सोचा की इस रुख्सार को सबक सिखाना पड़ेगा लेकिन फिर ख्याल आया कि ऐसे किसी लड़की का वो कर भी क्या सकते है। “
थोड़ी और तफ्तीश की गयी । वो कब स्कूल जाती है। कब वापिस आती है।कौन सा रास्ता लेती है। ये सब कुछ तो साधारण ही था उसकी ज़िन्दगी में। उसके फेसबुक और इंस्टाग्राम को भी चेक किया गया पर वहां पर भी कुछ उल्टा पुल्टा नज़र नहीं आ रहा था ।
मगर ऋषभ भी हार मानने वालों में से नहीं था। कुछ दिन बाद उसने फिर रुखसार को फ़ोन लगाया।
” हेलो । कर्नल ऋषभ दिस साइड। मुझे आपसे कुछ बात करनी है”
‘देखिये मैंने आपको पहले भी बोला था न कि मुझे ऐसे ..”
“दिस इस अबाउट फुरकान ‘ ऋषभ ने उसको बीच में ही टोक दिया था ।
“ जी कौन फुरकान । मैं किसी फ़ुरक़ान को नहीं जानती “ रुखसार की आवाज़ थोड़ी तो फीकी पड़ गयी थी।
‘देखो रुखसार। ये मेरा नंबर है। मैं तुम्हारी मदद कर सकता हूँ.। जब तुम्हे ठीक लगे मुझे कॉल कर लेना।”
बस इतना कह कर ऋषभ ने फ़ोन काट दिया। इस तरह से सीधा फुरकान की बात करना शायद बेवकूफी थी लेकिन पता नहीं क्यों ऋषभ को लगा की रुख्सार उस से ज़रूर राफ्ता करेगी।
वैसे उसने ये भी सोचा था कि रुखसार अगर न भी तैयार हो तो क्या फर्क पड़ेगा । वैसे भी उसकी टीम रुखसार और फुरकान के बारे में कुछ ख़ास तो पता नहीं लगा पा रही थी। ऐसी हालत में बस यही उसका आखरी दांव था ।
उधर रुखसार एक अजीब कशमकश में थी । एक फौजी अफसर के इस तरह अचानक फ़ोन करने से वो थोड़ा घबरा गयी थी। उसने बचपन से ही भारतीय फ़ौज को अपने गांव में गश्त लगाते हुए देखा था । बहुत बार फौजी उसके घर और मोहल्ले में तलाशी लेने भी आये थे। जब भी वो वो शहर जाने वाली सड़क पर लगे चेक पोस्ट से गुजरती थी तो मन ही मन फौजियों को पक्का कोसती थी । वैसे आज तक किसी फौजी ने उस से ग़लत तरीक़े से बात नहीं की थी लेकिन फिर भी जाने क्यों उसके मन में फ़ौज का बहुत डर था । और ये कर्नल ऋषभ ने तो उसको सीधे सीधे रफ़्ता करने की गुजारिश कर दी थी । उसको गुस्सा तो बहुत आया था लेकिन इस पागल कर्नल की आवाज़ में कुछ संजीदगी का भी एहसास हुआ था।
रुखसार का परेशान होना भी लाज़िमी था। एक तरफ कर्नल ऋषब चौधरी का सन्देश था और दूसरी तरफ फ़ुरक़ान।
उसने कर्नल से झूठ बोला था । बहुत अच्छी तरह से जानती थी वो फुरकान को। वो दो साल पहले उनके घर में आया था। जंगल में फौज का सर्च ऑपरेशन चल रहा था और फ़ुरक़ान अपने दो साथियों के साथ उनके घर में घुस कर छिप गया था। उनके गांव का तारिक़ मीर भी साथ में था। वही तो लाया था उनको वहां। रुखसार को बहुत गुस्सा आया था ये सोच कर कि अगर फ़ौज आ गई तो उनका पूरा घर तबाह हो जायेगा । लेकिन उसके वालिद ने उसको मजहब का हवाला दे कर चुप करा दिया था ।
अपने नए मेहमानों की काफ़ी खातिरदारी की थी उन्होंने। फुरकान ने उस दिन पहली बार रुखसार से बात की थी। बस उस दिन की मुलाकात के बाद फुरकान ने किसी न किसी बहाने उनके घर आना शुरू कर दिया था । और पता नहीं कब वो मुलाक़ातें मोहब्बत में बदल गयी।
इतनी पढ़ी लिखी और खूबसूरत रुख्सार कैसे जंगलों में अपना वक़्त बिताने वाले आतंकी फ़ुरक़ान से मोहब्बत कर बैठी ये तो खुदा ही जानता था ।उसको जल्दी है अंदाज़ा हो गया था कि कितना मुश्किल है ऐसे इंसान से मोहब्बत करना जो खुद अपनी जान बचाने के लिए दर बदर भटक रहा हो। हर तरफ फौज का पहरा रहता था और गांव में कौन मुखबिर है कौन नहीं इसका अंदाजा लगाना मुश्किल था। ऐसे हालात में दोनों को बहुत सोच समझ कर मिलने के मौके तलाशने पड़ते थे । रुखसार के घर वाले तो एक गैर मुल्की मुजाहिद की खिदमत करने को अपना मज़हबी फ़र्ज़ मानने लगे थे।
रुखसार जानती थी कि ये सब ज्यादा देर तक नहीं चल सकता। कश्मीर में हज़ारों की तादाद में मुजाहिद पाकिस्तान से आये थे और यहीं मारे गए थे। शुरू शुरू में उनका तहे दिल से इस्तकबाल करने वाले कश्मीरी भी अब इस सब खून खराबे से परेशान हो चुके थे.। तभी तो ये मुजाहिद रिहायशी इलाकों में कम से कम वक़्त बिताते थे। पता नहीं कब उनकी मौजूदगी की इतिल्ला कोई पुलिस या फौज को दे दे। रुखसार को ये इल्म था कि कभी न कभी तो फ़ुरक़ान का भी वही हश्र होना है। उसने एक दो बार फुरकान से ज़िक्र करने की भी कोशिश की थी लेकिन फिर कोई जवाब न मिलने पर वो अक्सर मायूस हो जाती।
बहुत मोहब्बत करती थी रुख्सार फ़ुरक़ान से और इसी मोहब्बत ने रुखसार को ऋषभ की बात पर गौर करने को मजबूर कर दिया। न वो ऋषभ को जानती थी और न ही उसको फ़ौज पर कोई भरोसा था.। लेकिन वो लाचार थी और ऋषभ की बात में उसको उम्मीद की इक छोटी सी किरण नज़र आई थी।
सात आठ दिन के बाद जब ऋषभ के पास रुखसार का फ़ोन आया तो वो तैयार था। उसके दिमाग में जो योजना पनप रही थी अब उसको अंजाम देने का वक़्त आ गया था।
उसने रुख्सार को श्रीनगर में मिलने को बोलै तो वो थोड़ा सहम गयी थी ।
आप घबराओ मत। वहां इतनी भीड़ होती है कि कोई हमें नहीं पहचानेगा। वैसे चाहो तो आप हमारे कैंप में भी आ सकती हो।’
ऋषभ जानता था की वो कैंप में अकेली नहीं आएगी और इसलिए वो उसे श्रीनगर शहर में मिलना चाहता था।
नहीं सर। श्रीनगर में ही मिलते है.।”.
“ठीक है वो गुपकार रोड पर कैफ़े कॉफ़ी डे है न । वहीँ मिलेंगे इस जुम्मे को दो बजे”
ऋषभ ने बड़ा सोच समझकर वो वक़्त और जगह चुनी थी। हाई सिक्योरिटी एरिया में स्थित उस सीसीडी में अक्सर टूरिस्ट और शहरी तबके के लोग आते थे। और वैसे भी जुम्मे को ज्यादातर लोग उस वक़्त नमाज़ पढ़ते थे । ऐसे में वहां मिलना आसान था।

पूरे इलाके का मुआयना करने के बाद ही कैफ़े में अंदर घुसा था ऋषभ और फिर ऐसी जगह बैठ गया था जहाँ पूरे कैफ़े पर नज़र रख सके। जीन्स के अंदर ठूंसी हुई पिस्तौल उसको बैठने में थोड़ा दिक्कत दे रही थी। उसके साथ सिविल ड्रेस में आये दो सिपाही गेट के बाहर ही रुक गए थे.। हर तरह की एहतियात बरतना बहुत ज़रूरी था।
पहली मुलाक़ात की बहुत अहमियत थी ऋषभ के लिए । रुखसार जब कैफ़े के अंदर आयी तो कोने में बैठे ऋषभ ने उसको अपनी तरफ आने का बड़े सलीके से इशारा किया।
“आपको तकलीफ तो नहीं हुई आने में “
“नहीं नहीं। मैं अक्सर श्रीनगर आती हूँ.। बीएड यहीं से तो किया है। ” थोड़ा असहज थी रुखसार। उसने किसी ख्वाब में भी नहीं सोचा था की वो किसी अजनबी से । वो भी गैर कश्मीरी और उस पर से एक फौजी के साथ इस तरह किसी कैफ़े में चोरी छुपे मिलेगी”
“ रुखसार आपके यहाँ आने से मुझे कितनी खुशी हुई है. इसका आप अंदाज़ा भी नहीं लगा सकती । मै ये तो जानता हूँ कि आप फुरकान के साथ राब्ते में हो पर मैं ये नहीं जानता कि क्यों और कैसे। लेकिन इतना यकीन से कह सकता हूँ कि इस रास्ते में सिर्फ तबाही है”
ऋषभ बोले जा रहा था और रुखसार चुप चाप सुन रही थी। इसके अलावा वो कर भी क्या सकती थी।ये तो उनकी पहली मुलाक़ात थी। ऐसे कैसे भला वो इस फौजी पर भरोसा करती।
ऋषभ भी बातें बनाने में बहुत माहिर था । वो शुरुआत में सिर्फ रुखसार का भरोसा जीतना चाहता था और इसलिए उसने फुरकान के बारे में जानने की ज्यादा कोशिश नहीं की।
बस उनके बीच इधर उधर की बातें होती रही और दोनों को पता ही नहीं चला कि कैसे दो घंटे बीत गए।
“चलिए बहुत वक़्त हो गया । आपको जाना होगा । सच में बहुत अच्छा लगा आपसे मिलकर ।
ऋषभ ने मुस्कुराते हुए उस से विदा ली।
” एंड आई विल वेट फॉर योर कॉल “
वापिस जाते वक़्त पूरे रास्ते रुखसार ऋषभ से हुई मुलाक़ात के बारे में सोचती रही। अच्छा लगा था उसको इस तरह किसी के साथ कॉफ़ी पीना।
लेकिन उसकी हर सोच फुरकान का ध्यान आते ही रुक जाती और अब यही खयाल उसको परेशान कर रहा था।
उसे यकीन था कि अगर वो ऋषभ से मुलाक़ात का ज़िक्र भी करेगी तो फ़ुरक़ान को पसंद नहीं आएगा। इसी उधेड़ बुन में रुख्सार के दिन गुजरने लगे । उसने ऋषभ से फ़ोन पर बात करना शुरू कर दिया था । और फिर धीरे धीरे उस पर भरोसा करना भी।
कई बार फुरकान को भी लगा कि कुछ तो अजीब है और यही सोच कर उसने एक दिन रुखसार को टोका भी था।
“आजकल कहाँ गुम रहती हो । सब खैरयत तो है ।
” कुछ नहीं। बस तुम्हारी फ़िक्र है मुझे फुरकान । ऐसे कब तक जंगलों में घूमते रहोगे । हम साथ नहीं रह सकते क्या”
“क्या कह रही हो मेरी जान। ज्यादा मत सोचो । जो अल्लाह को मंजूर होगा , बस वही होगा ”
फुरकान को समझाना मुश्किल था और उधर ऋषभ धीरे धीरे रुखसार का भरोसा जीत रहा था। उसे ये तो यकीन हो गया था की रुख्सार को फ़ुरक़ान से इश्क़ है लेकिन वो अब ये पता करना चाहता था कि फुरकान उस से किस कदर मोहब्बत करता है और उसकी मोहब्बत में क्या कर सकता है।
वैसे तो कश्मीर में पहले भी ऐसे कई वाकये हुए थे जब इसी तरह कई लड़कियों ने अपने रिश्तों का फ़ायदा उठा कर मुजाहिदों की ही खबर फ़ौज को दी थी। अभी तक ऋषभ को नहीं पता था कि क्या रुख्सार से ये करवाना मुमकिन है ।
वो ये कोशिश कर सकता था लेकिन ऋषभ फुरकान को मारना नहीं बल्कि इस्तेमाल करना चाहता था ।
“ देखो रुख्सार तुम्हे उसे मनाना होगा । तुम उसके साथ पूरी उम्र ख़ुशी ख़ुशी गुजार सकती हो मगर उसके लिए ये जिहाद का भूत उसके सर से उतरना पड़ेगा। इस से पहले भी कितने लोग पाकिस्तान से आये और यहाँ पर अपनी जान दे दी। भला किस के लिए । और अब वो यहां पर क्या कर रहे है । बस जंगलों में हथियार उठाये घूम रहे हैं । जिन लोगों के लिए जिहाद करने आये हैं उन्ही से बच कर । एक दिन बाकियों की तरह फ़ुरक़ान भी मारा जायेगा । उसके बाद पछतावे के अलावा कोई चारा नहीं रह जायेगा तुम्हारे पास।”
” लेकिन सर वो मेरी बात क्यों मानेगा । “
“क्यूंकि वो तुमसे मोहब्बत करता है। है न। और अगर नहीं करता तो फिर वो तैयार नहीं होगा। साफ़ मना कर देगा। बस फिर तो कोई मसला ही नहीं रहेगा । मारा तो जायेगा वो भी एक दिन हमारे हाथों। ”
“नहीं नहीं सर । आप मुझे थोड़ा वक़्त दीजिए “ फुरकान की मौत के ख्याल से ही रुख्सार बेचैन हो गयी थी।
“ठीक है रुख्सार। देख लो क्या करना है। मैं वादा करता हूँ कि अगले दो हफ़्तों में फ़ौज की तरफ से फ़ुरक़ान के ख़िलाफ़ कोई भी ऑपरेशन नहीं होगा। फिर भी अगर वो कहीं फँस जाये तो मुझे इतिल्ला कर देना । “
ऋषभ ने वादा तो कर दिया लेकिन फुरकान के बारे में अब तक उसने किसी को कुछ नहीं बताया था। अभी तो शुरुआत थी और बिना किसी को कुछ बताये फौज और पुलिस से पूरे दो हफ्ते तककोई आपरेशन नहीं होने देना बहुत मुश्किल था।
ऋषभ सोच रहा था कि इतने सालों तक जब फुरकान बच गया है तो दो हफ़्तों में भी बच ही जायेगा । उसे थोड़ा बुरा लगा रुखसार को झूठ बोलते हुए लेकिन उसके पास इसके अलावा कोई चारा भी नहीं था।”
वक़्त यूँ ही बीतता जा रहा था । आख़िर एक दिन मौका देख कर रुखसार ने फुरकान से बात छेड़ ही दी।
“सुनो। एक बात कहनी थी । वो क्या है कि कुछ दिन पहले मेरी एक फौजी अफसर से बात हुई थी। ”
” क्या। ये कब हुआ । तुमने बताया क्यों नहीं। परेशान तो नहीं किया हरामजादों ने ” फुरकान के तेवर एक दम बदल गए थे।
नहीं नहीं। ऐसा कुछ नहीं है। वो तो बहुत अच्छा इंसान है। मैं सोच रही थी कि तुम बात करोगे क्या उस से। बस एक बार । हो सकता है कि …।”
“ तुम पागल हो गयी हो क्या? उसने तुमसे राफ्ता कैसे किया । और तुमने उसको हमारे बारे में कुछ बोलै तो नहीं। तुम बहुत भोली हो रुखसार । इन सब चक्करों में मत पड़ो ।
“देखो मुझे किसी से कोई बात नहीं करनी है और ख़बरदार तुमने अगर उस से दुबारा बात की तो। मिली भी हो क्या उस से ? “ फुरकान गुस्से में बडबडाते हुए वहां से चला गया था।
रुखसार को बुरा तो लगा था लेकिन उस पर इसका ज्यादा फर्क नहीं पड़ा। उसे अब ऋषभ की बातों पर भरोसा होने लगा था। उसने जब ऋषभ को फुरकान के आगबबूला होने के बारे में बताया तो ऋषभ ने उसको हिम्मत न हारने की सलाह दी थी।
” तुम घबराओ मत। मैं हूँ न तुम्हारे साथ। तुम उसको मनाने की कोशिश करती रहो। बस मेरी एक बार फ़ोन पर बात हो जाये उस से। ”
ये समझने के साथ ही उसने रुख्सार को एक मोबाइल और सिम कार्ड पकड़ा दिया।
.”देखो ।इस फ़ोन से सिर्फ दो ही लोगों से बात करना। मुझसे और फुरकान से । बाक़ी किसी और को ये नंबर नहीं देना । ”
इसी तरह रुखसार फुरकान को मनाने की कोशिश तो करती रही लेकिन फुरकान पर ज्यादा असर नहीं पड़ रहा था । ऋषभ को ये सब साफ़ पता चल रहा था क्यूंकि अब उसकी टीम उन दोनों की सारी बातें ऋषभ के दिए हुए मोबाइल के ज़रिये सुन रही थी ।
आखिर रुखसार ने फुरकान को मना ही लिया और वो ऋषभ से एक बार बात करने के लिए तैयार हो गया लेकिन सिर्फ अपनी मोहब्बत की खातिर।
” कैसे हो फ़ुरक़ान। मुबारक हो तुम्हे। बहुत खुश किस्मत हो जो रुख्सार जैसी लड़की मोहब्बत करती है तुमसे।“
“ जी मुबारकबाद तो आपको है । आपने इस बेचारी को पता नहीं क्या पट्टी पढाई है कि इसने मुझे मजबूर कर दिया। आखिर क्यों परेशान कर रहे हो हमें । “
फुरकान की आवाज़ और लेह्ज़ा दोनों में बेरूख़ी साफ़ महसूस हो रही थी।
उस दिन थोड़ी देर ही गुगतगु कर पाये थे वो दोनों। फुरकान को उससे बात करने में ज्यादा दिलचस्पी नहीं थी।
” चलो अब बात हो गयी है तो इंशाअल्ला मुलाक़ात भी हो जाएगी । अपना ख्याल रखना फुरकान। और हम पर भरोसा करो । रुखसार की खातिर।
ऋषभ की योजना में अगला कदम फ़ुरक़ान से मुलाकात करना था। इसमें काफ़ी खतरा तो था लेकिन इसके अलावा कोई और चारा भी नहीं था। अब तो ऋषभ फुरकान की हरकतों के बारे में अच्छी तरह जानता ही था जो रुखसार उसको अक्सर बता दिया करती थी । जब कभी कहीं और से भी फुरकान की खबर आती तो वो बहाना बना कर खुद को और बाकी फौजी दस्तों को वहां ऑपरेशन करने से रोक देता । इस सब में जावेद भी उसकी पूरी मदद कर रहा था।
आखिर दो चार दफा बात करने के बाद फुरकान भी ऋषभ से मिलने को राज़ी हो गया था । पर उसने श्रीनगर आने से साफ़ मना कर दिया। उसे डर था की कहीं रास्ते में ही फ़ौज उसे न पकड़ ले। इसके साथ ही उसने ऋषभ के अकेले आने की शर्त भी रखी।
बहुत टाल मटोल के बाद आखिर दोनों बारामुल्ला में मिलने को राज़ी हो गए।
“वो सैंट जोसफ हॉस्पिटल है न । उस के सामने मिलते हैं । रविवार को 3 बजे । रुखसार को अपने साथ रखना । और देखो फेरन मत लगा कर आना । वो क्या हैं न कि फेरन के अंदर छुपाए हुए हथियार का अंदाज़ा नहीं होता “।
ऋषभ ने उसको ये सब हिदायतें दी तो फ़ुरक़ान हंसने लगा था।
बारामुल्ला शहर के पास बने सैंट जोसफ हॉस्पिटल में अक्सर भीड़ रहती थी । वहीँ सड़क के पार एक छोटा सा फ़ौजी कैंप भी था। ऋषभ पूरी सावधानी के साथ मिलना चाहता था और इसलिए उसने ये जगह चुनी थी।
उस पहली मुलाक़ात में दोनों ही बहुत असहज थे ।दोनों को ही एक दुसरे पर भरोसा नहीं था। फुरकान रुखसार के साथ थोड़ा देरी से आया। शायद वो इलाक़े की निगरानी कर रहा था। जब उसे लगा कि आसपास फ़ौज का कोई खतरा नहीं है तभी वो हॉस्पिटल के सामने बताई हुई जगह पर पहुंचा था।
इस बार ऋषभ ने उन दोनों को नए सिरे से समझाने की कोशिश की। भरोसा दिलाया कि अगर फुरकान उनकी मदद करे तो वो दोनों को वापिस पाकिस्तान भेज सकते है ताकि वो अपनी ज़िन्दगी एक साथ बसर कर सके।
“मैं तुम्हारे जवाब का इंतज़ार करूँगा। ज्यादा वक़्त नहीं है हमारे पास फुरकान। बाकि तुम दोनों की मर्ज़ी है ।”
इस मुलाकात ने फुरकान को बहुत असमंजस में डाल दिया था। . एक तरफ रुखसार की मोहब्बत और दूसरी तरफ उसके मुजाहिद साथियों का भरोसा। उसने सोचने में थोड़ा वक़्त लिया। इस खानाबदोशी की ज़िन्दगी से परेशान था वो। अपने मुल्क वापिस जाने का और घर बसाने का लालच बहुत लुभावना था।
वैसे पहले भी तो कई मुजाहिद तीन चार साल यहाँ लगा कर वापिस गए थे और तंज़ीम के मुख्तलिफ काम संभाल रहे रहे थे । ऐसे मुजाहिदों की तो पाकिस्तान में बहुत इज़्ज़त भी होती थी ।उसे लगा कि अगर वो तंज़ीम से बात करे तो शायद वो इज़ाज़त दे दें । फ़ुरक़ान के दिलों दिमाग में अब कई मनसूबे पनपने लगे थे।
आखिरकार बहुत सोचने के बाद उसने ऋषभ को ये संदेश भेज ही दिया कि वो मदद करने को तैयार है बशर्ते उस पर कोई आंच न आये।
बस उस दिन से ऋषभ ने फुरकान को अपने हिसाब से काम करवाना शुरू कर दिया ।
“सब से पहले तुम वहाँ पर बैठे लश्कर के बाकी कमांडर से राफ्ता करने का तरीका बदलो। वो तुम्हें बहुत मानते हैं ।अब उनको यकीन दिलाओ कि तुम अपना नेटवर्क बढ़ा रहे हो। और इस के लिए यहाँ पर उनके जो लोग हैं उनके बारे में जितनी ज्यादा खबर हो सके वहां से हासिल करो । और आज के बाद फ़ौज पर कोई कारवाई मत करना। “
इसी तरह दिन गुजरते गए। फुरकान पाकिस्तान में तंज़ीम से राब्ता और उनकी सब बातें ऋषभ को बताता। वो दोनों बहुत होशियारी से एक दुसरे के साथ भी राब्ता करते। अक्सर रुखसार ऋषभ से मिलने आती। तीनो ये जानते थे कि अगर इस बात की किसी को ज़रा भी भनक लगी जायेगी तो ये पूरा खेल शुरू होने से पहले ही खत्म हो जाएगा ।
ऋषभ को यकीन था की इस पूरी योजना में पुलिस को साथ लेना भी बेहद ज़रूरी है लेकिन पुलिस को सब कुछ बताना में खतरा भी था। यही सोच कर उसने अपनी अगला दांव फेंका।
“ जावेद क्या हाल है । कहाँ गायब हो ।“
“ सब खैरियत है सर। गायब तो आप हो। बहुत मशरूफ हो आजकल । मुलाकात ही नहीं होती। “
“अच्छा । आज शाम को मिलते है। कुछ बात करनी है। ”
जावेद इतना तो तुजूर्बेकार था की वो झट से समझ गया कि बात कुछ ख़ास ही है। वैसे भी पुलिस वालों का सिक्स्थ सेंस बहुत तेज़ होता है।
ठीक पांच बजे पहुंच गया था जावेद ऋषभ के पास। उन दोनों के तालुक्कात इतने अच्छे थे की किसी औपचारिकता और आवभगत की ज़रुरत नहीं थी।
देखो जावेद हमने अब तक बहुत आतंकवादी मारे हैं और आगे भी मारेंगे पर यह केस अलग है हम फुरकान की जान बचा सकते है । उसको नयी ज़िन्दगी दे सकते हैं और इसमें सबका फायदा है। ”
“वो तो है सर लेकिन हम उसके लिए अगर इतना सब कर रहे हैं तो उसको भी तो तावन्न करना चाहिए। हमारा भी कुछ काम करे.। हम उसको ज़िन्दगी बक्श रहे हैं तो वो भी अपने तीन चार साथियों की जान हमारे हवाले कर दे । तभी तो दोनों का फ़ायदा होगा। ठीक है न सर। “ जावेद पक्का पुलिसिया था। बिना सौदे के कोई काम नहीं करना चाहता था।
“अरे यार वो बाद में देखेंगे। तुम बस अपने डिपार्टमेंट को सम्भलो। एक बार फुरकान काबू में आ जाये तो फिर आगे का सोचेंगे कि क्या काम लेना है।
ऋषभ जानता था कि पुलिस की मदद के बगैर वो इस मामले में आगे नहीं बढ़ सकता और जावेद पर भरोसा करने के अलावा कोई चारा नहीं था।
जावेद ने जाते हुए जो सलाह दी थी वो ऋषभ के कानो में बहुत देर तक गूंजती रही थी।
“देख लेना सर। कुछ गड़बड़ न हो जाये। इन सालों का भरोसा करना ठीक नहीं है।
“हाँ हाँ ठीक है । लेटस सी।.बस तुम मदद करो ।अगर उसकी खबर आये तो ऑपरेशन करने मत भाग जाना। हमें बड़ी गेम खेलनी है।
इंसानी ज़िंदगियों के इतने संजीदा मसलों को सिर्फ एक गेम समझना ऋषभ को खुद थोड़ा अजीब सा लगा था लेकिन अब तो ऋषभ को सिर्फ इसी गेम का जूनून था।
जावेद के कारण पुलिस की तरफ से तो ऋषभ मुत्मइन हो गया था लेकिन फ़ौज के आला अफसरों को राज़ी करना उस से भी मुश्किल था। बादामी बाग में कमांडर साहिब के पास जब ये प्लान बताया गया तो वो थोड़ा तिलमिला उठे थे ।
“ नो वे । ये पाकिस्तान से हमारे देश और हमारी फ़ौज को नुक्सान पहुँचाने आया है और तुम इसकी हिमायत कर रहे हो। इतने सालों में इसने पता नहीं कितनी बार फ़ौज पर फायरिंग की होगी .और हम इसे ज़िंदा वापिस भेज दें। क्यूंकि वो यहाँ जिहाद की बजाय इश्क़ फरमा रहा है । “
आई अंडरस्टैंड सर।
ऋषभ को कमांडर साहिब के मूड का तुरंत ही अंदाज़ा हो गया था।
” सर हम उसको वापिस अपनी शर्तों पर भेजेंगे। उस से काम लेंगे। देयर विल बी नो फ्री लंचेस सर।
ये बात सुन कर कमांडर साहिब थोड़ा नरम हो गए थे “लेटस सी। लेकिन वो है कहाँ ? कैसे मदद करेगा हमारी?
ऋषभ ने कमांडर साहिब को ये नहीं बताया की वो फ़ुरक़ान से मिल चुका है और कई बार तो उसने फ़ुरक़ान को अपने पास ही रखा है.। उसे डर था कि कमांडर साहिब उसको फुरकान की गिरफ्तारी का हुकुम ही ना दे दें । या फिर उस से मिलने की ख्वाहिश कर बैठे.। वैसे भी किश्तों में सच बोलने की आदत पड़ चुकी थी ऋषभ को।
और इस पूरे मामले में उसे कमांडर साहिब की रजा मंदी चाहिए थी। दखल अंदाजी नहीं ।
अब वो अक्सर रुखसार और फुरकान से मिलता था। धीरे धीरे दोनों को ऋषभ पर भरोसा होने लगा था और वो ऋषभ की हर बात मानने लगे थे।
“सच बताओ फुरकान बहुत मुश्किल होगा न तुम्हारे लिए इस तरह सब कुछ छोड़ देना । अपने साथियों के राज़ हमें बताना । उनको नुक्सान पहुंचाना”
“मुश्किल तो है साहिब। पर सच कहूँ तो कोई ज्यादा गिला भी नहीं है ।.जब हम पाकिस्तान में थे तो हमें बताया गया था की यहाँ मुसलमानों पर जुल्म हो रहा है। उनको नमाज़ तक पड़ने की भी इज़ाज़त नहीं है। मस्जिदों में ताले लगे हैं.।
लेकिन यहाँ पहुँचा तो मैंने हालात बिलकुल अलग देखे । यहाँ तो हर मोहल्ले की अपनी मस्जिद है और हर किस्म की अज़ान सुनाई देती है । हमें सिखाया गया कि कश्मीरियों के हक की लड़ाई लड़नी है.और यहाँ हम किसी के घर में इस डर से नहीं बैठते कि कोई कश्मीरी हमें मरवा न दे। “
“हर मुसलमान का फ़र्ज़ है जिहाद साहिब लेकिन यक़ीनन ये वो जिहाद नहीं है ।
खैर मेरी छोड़ो । ये बताओ कि आपको अजीब नहीं लगता। आपके दुश्मन मुल्क से आपकी फौज के खिलाफ लड़ने आया पाकिस्तानी आतंकी आपके साथ इतने आराम से गुफ्तगू कर रहा है। आपके जवान मेरी मेहमान नवाजी कर रहे है। कैसा मह्सूस होता होगा इनको और आपको । ”
” कुछ गलत नहीं लगता नवीद। यही तो हमारी फ़ौज की खासियत है। हम मारने से ले कर बचाने तक का काम बखूबी करते हैं। “
ऋषभ ने पिछले कुछ दिनों से जान बूझ कर फुरकान के असली नाम का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया था । उसने रुखसार को भी ऐसा ही करने को राज़ी कर लिया था । उसके ख्याल में फुरकान को मिटाने की शुरुआत उसके नाम से करना बहुत ज़रूरी था।
अगले चार महीने में फुरकान की बदौलत फ़ौज को कई सफलताएं मिली। ऋषभ की टीम के पास आतंकी गतिविधियों की बहुत खबरे आए रही थी लेकिन फुरकान पर किसी को शक न हो इसलिए वो बहुत सावधानी से उन खबरों का इस्तेमाल करते। वो कई बार सब कुछ पता होने के बाद भी ऑपरेशन नहीं करते और कई बार जान बूझ कर गलत जगह ऑपरेशन कर देते।
इस दौरान फुरकान की बेसब्री थोड़ी बढ़ रही थी । उसने तंज़ीम वालों को अपने वापिस पाकिस्तान आने के प्लान का ज़िक्र कर दिया था। वो राज़ी भी हो गए थे लेकिन हमेशा फुरकान को वापिस आने से पहले किसी बड़े काम को अंजाम देने की बात कहते थे।
ऋषभ को भी फ़ुरक़ान की हालत का अंदाज़ा था । लश्कर का वादी में अच्छा खासा नेटवर्क था और ज्यादा देर तक वो पाकिस्तानी आकाओं को अँधेरे में नहीं रख सकता था।
“ तुम घबराओ मत । जल्दी ही कुछ तरीक़ा निकालेंगे। अच्छा ये बताओ नवीद । जिहाद करना मुश्किल है या इश्क़ करना । .”
ऋषभ के इस तरह चतुराई से बात बदलने पर नवीद हल्का सा मुस्कराया था ।
”साहिब सबसे मुश्किल है जिहाद में इश्क़ करना । काश कि जिहाद भी इश्क़ की तरह होता । करना नहीं पड़ता बस हो जाता।
उन दोनों की बातों को चुप चाप सुन रही रुखसार से तब रहा नहीं गया था ।
“ आप दोनों भी न बस । अल्लाह को आपके हाथों में बन्दूक नहीं कलम थमानी चाहिए थी ।“
रुखसार आजकल ऋषभ को अफसर कम और दोस्त ज्यादा समझने लगी थी।
“ नवीद को जल्दी वापिस भेजो न सर।अब डर लगने लगा है।
वैसे ऋषभ अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रहा था लेकिन उसके कई बार समझाने के बावजूद आला कमांडर तैयार ही नहीं हो रहे थे।उनके ख्याल में फुरकान से ज्यादा से ज्यादा काम लेने के बाद उसको मार देना ही ठीक था। इससे ये साबित भी हो जाता कि पाकिस्तानी जिहादी यहाँ आ तो सकते है लेकिन बच कर वापिस जा नहीं सकते ।
दिन बीते जा रहे थे और फुरकान को वापिस भेजने के निर्णय लेने पर उच्च अधिकारी टाल मटोल कर रहे थे। फुरकान भी बहुत बेचैन था। अक्सर ऋषभ से सवाल करता।
“क्या हुआ साहिब? कुछ तय हुआ या नहीं । मुझे तो लगता है कि आप मेरा एनकाउंटर कर दोगे। वैसे आर्मी का तो काम है ही आत्नकवादियों को मारना।
फुरकान के ऐसे कटाक्ष करने से भी ऋषभ पर कोई असर नहीं पड़ा था ।
“देखो नवीद । हमारा काम आतंकवाद को खत्म करना है और अगर किसी आत्नकवादी को ज़िंदा रख कर आतंक वाद खत्म होता है तो फिर इस से अच्छी बात क्या होगी।
और तुम तो वापिस जाओगे चाहे इसके लिए मुझे कुछ भी करना पड़े।
ऋषभ के पास वक़्त कम था । इस साल बर्फ गिरने से पहले कुछ न कुछ तो करना था लेकिन फ़ौज के आला अफसर इतनी आसानी से कहाँ मानने वाले थे.। उनके विचार में अब भी एक पाकिस्तानी आतंकवादी पर भरोसा करना ठीक नहीं था।
बात बहुत ऊपर तक गयी। ऋषभ ने सबको यकीन दिलाया कि फुरकान ने अब तक उनकी बहुत मदद की है और आगे भी करेगा। सोने के अन्डे वाली मुर्गी को मारने जैसे तुलना भी की थी। एक बार तो उसने तैश में आकर अपना इस्तीफ़ा देने की पेशकश भी कर दी थी।
कुछ ऋषभ की ज़िद का असर था । कुछ उसकी छवि का और शायद किस्मत का चमत्कार कि आखिरकार फुरकान को वापिस भेजने की अनुमति मिल ही गयी।
“ ठीक है ऋषभ लेकिन वो अपने हथियार के साथ नहीं जायेगा । रास्ते में कुछ गडबड कर दी तो कौन ज़िम्मेवारी लेगा ।
“बट सर । वो ऐसे खाली हाथ कैसे जायेगा। वहां पर लश्कर वालों को शक हो जायेगा । वैसे भी वो आजकल इस से कुछ ज्यादा ही सवाल पूछ रहे हैं.।
मेरे ख्याल से हमें ये सब ठीक वैसे करना चाहिए जैसे कि आम तौर पर होता है। प्लीज सर सिर्फ एक एक -47 का ही तो सवाल है । ले जाने दीजिए। .”
तुम बहुत ज़िद्दी हो ऋषभ। ठीक है। हथियार भी ले जाने दो । लेकिन अगर इस को बोर्डर पर लगे हमारे अम्बुश में से किसी ने ठोक दिया तो मुझसे शिकायत मत करना। . “
“थैंक यू सर ।आई विल मैनेज दैट। “
अब तो ऋषभ की ख़ुशी का ठिकाना नहीं था । आखिर वो दिन आ ही गया जिसके लिए उन्होंने इतनी मेहनत की थी । ये तो उन्होंने पहले ही तय कर लिया था कि गुरेज़ के इलाक़े से फ़ुरक़ान वापिस जायेगा।
सब तैयारी करने के बाद ऋषभ और फ़ुरक़ान श्रीनागर से निकले तो रुखसार की आँखें बहुत नम थी। मानो पूरा झेलम दरिया ही उनमें उमड़ आया हो ।
फ़ुरक़ान के चेहरे पर कोई शिकन न थी। उसको नहीं पता था कि आगे क्या होने वाला है। उन दोनो को ऋषभ पर बहुत यकीन था लेकिन फिर भी दोनों थोड़ा बेचैन भी थे। पता नहीं फिर कब मुलाकात हो । और ये भी नहीं पता था कि मिलेंगे भी या नहीं । लाइन ऑफ़ कंट्रोल को पार जो करना था। वहां दोनों तरफ फौज थी और उधर कब क्या हो जाए ये सिर्फ खुदा ही जानता है।
“जानते हो नवीद । गुरेज़ की खासियत क्या है।
हाँ हाँ साहिब। सुना है बड़ा खूबसूरत और वीरान इलाका है। ऊँचे पहाड़। गहरे नाले । घने जंगल और उनमें छुपकर पार जाने के अनगिनत रास्ते हैं वहां। हमारे कई साथी वहीँ से तो अंदर आते हैं।
“हाँ वो तो है लेकिन वहां हब्बा खातून की पहाड़ी भी है । कश्मीर के इतिहास की सबसे मशहूर गायिका। उसकी और राजा युसूफ चाक की मोहब्बत से भरी दास्तां को बयान करता है गुरेज़। कहते हैं कि अपने प्रेमी की याद में हब्बा खातून यहीं आंसू बहाते हुए घूमती थी ।
रुखसार ये सुन कर सहम गयी थी और उसके आंसू ने भी और रफ़्तार पकड़ ली थी । वैसे ऋषभ के दिल में भी एक अजीब सा डर था । आज उसके ज़िन्दगी का सबसे अहम ऑपरेशन था।
तकरीबन चार घंटे का रास्ता था गुरेज़ का। हमेशा हंसते हुए बात करने वाला ऋषभ चुप था।
“ क्या हुआ साहिब। आपकी ख़ामोशी बहुत खौफ पैदा कर रही है ।कहीं आपने इरादा बदल तो नहीं दिया।
फुरकान के मज़ाक को ऋषभ ने नज़रंदाज़ कर दिया था।
“थोड़ा सो जाओ नवीद। रात को आराम का बिलकुल मौका नहीं मिलेगा। “
“नहीं साहिब।आज नींद नहीं आएगी और फिर आज के बाद आपसे मुलाक़ात भी पता नहीं कब होगी ।”
मुलाकात तो मुश्किल है नवीद लेकिन मैंने जैसे समझाया है वहाँ पहुँच कर वैसा ही करना। भूल मत जाना हमें।
इसी तरह उस उबड़ खाबड़ रास्ते पर चन्द घंटे गुजारने के बाद वो गुरेज़ पहुँच गए.। वहां से थोड़ी दूर तक पहाड़ी रास्ता था जिस पर पैदल सफर करना था। रात और गहरी हो चली थी।
“ यहाँ से तकरीबन दो किलोमीटर दूर है लाइन ऑफ़ कंट्रोल। उसी के पार है लोसर गाँव जहाँ पर तुम्हे जाना है। ये जो नाला है ना । बस इसी में चलते रहना । नाले के ठीक ऊपर हमारी दो चौकियां हैं और उस तरफ उनके ठीक सामने पाकिस्तानी फ़ौज की । थोड़ा ध्यान से जाना । “
“ ठीक है साहिब। वहां तो मैंने बता दिया है.। तंज़ीम वाले मेरा इंतज़ार कर रहे होंगे। बस आप इस तरफ खयाल रखना। ऐसा न हो कि कल अखबार की सुर्खयों में एक मुजाहिद की मौत की खबर हो।
“ चलो अब जाओ नावेद । खुदा पर भरोसा रखो। हमारा साथ शायद यहीं तक था। ”
उस अँधेरी रात में जल्द ही फुरकान उसकी आँखों से दूर हो गया। ऋषभ के दिल में किसी अनहोनी काअंदेशा अब भी था । लाइन ऑफ कंट्रोल पर देश की फौज हमेशा मुस्तैद थी । ऐसे में रात को किसी भी तरह की हरकत होती देख कर उनका कार्रवाई करना लाज़िमी था ।
ऋषभ अपने साथियों के साथ अगले कुछ घंटे वहीं रुका रहा। उस दौरान कोई फायरिंग की आवाज़ नहीं होने का मतलब था कि कोई हादसा नहीं हुआ है। लेकिन फुरकान का वहाँ पर पहुँच कर क्या हुआ होगा इसका ऋषभ को बिलकुल अंदाज़ा नहीं था।
वापिस आने के बाद अब उसे फुरकान के सन्देश का इंतज़ार था। इसी इंतज़ार में कई दिन बीत गए । इस दौरान रुखसार अक्सर उस से फ़ोन पर बात करती। ऋषाब को अब उसके रोने की और उसको सांत्वना देने की आदत हो गई थी ।
फिर एक दिन अचानक रुखसार उस से मिलने सीधे उसके दफ़्तर आ गयी।
“ अरे रुख्सार । बिना बताए सुबह सुबह अचानक यहां। सब ठीक तो है।
“हाँ सर। मैंने फ़ोन नहीं किया क्यूंकि आपसे खुद मिल कर आपको ये बताना चाहती थी। नवीद से बात हुई कल। वो बिलकुल ठीक है। पहले थोड़ी परेशानी ज़रूर हुई। वहां लोगों को थोड़ा शक था कि वो इस तरह अकेला कैसे वापिस आ गया। उन्होंने तफ्तीश भी की लेकिन नवीद ने अपने जवाबों से सबको मुत्मइन कर दिया। ” रुखसार का चेहरा ख़ुशी से झूम रहा था ।
“अरे वाह। सब खुदा की रहमत है । अब तुम भी तैयारी करो। पासपोर्ट तो पहले ही बना ही लिया था। बस अब वीसा लगवाना है । जल्दी से जल्दी कोशिश करेंगे। और देखो इस बात का जिक्र यहाँ पर किसी से भी न करना। अपनी प्रेम कहानी का ढिंढोरा मत पीटना । समझी।”
कुछ दिनों में वीसा भी आ गया। रुखसार को श्रीनगर एयर पोर्ट तक छोड़ने गया था ऋषभ। दोनों रास्ते भर खामोश थे और मायूस भी । शायद ये सोचकर कि वो हमेशा के लिए बिछड़ने वाले है।
“सर एक बात पूछूं। क्या आपको सच में लगता है कि मुझे यहाँ सब कुछ छोड़ कर पाकिस्तान चले जाना चाहिए।
एयरपोर्ट पहुँचने पर जब रुखसार ने ये सवाल किया तो ऋषभ थोड़ा सकपका गया था।
” तुम्हारी मर्ज़ी है रुख्सार । अगर रुकना चाहती हो तो रुक जाओ । लेकिन ये याद रखना कि नवीद ने सिर्फ तुम्हारे लिए इतना अहम फैसला लिया था।
” हां । सही बोल रहे हो सर । मुझे जाना चाहिए । वैसे फ्लाइट का टाइम भी हो गया । वहां पहुंच कर किसी तरीके से राब्ता करूंगी। मेरे घर वालों का ख्याल रखना सर ।प्लीज।”
“अरे चिंता मत करो। खुशी खुशी जाओ । रूखसार आखिर तुमने साबित कर ही दिया कि मोहब्बत की कोई सरहद नहीं होती। ”
““सब आपकी वजह से हुआ सर। आपने ये साबित कर दिया कि ख्वाबों की भी कोई सरहद नहीं होती “
ऋषभ से दूर जाते वक़्त रुखसार की खूबसूरत आँखों में फिर से एक सैलाब उमड़ पड़ा था।
इसी तरह फुरकान और रुखसार की नयी ज़िन्दगी की शुरुआत हुई। उनको थोड़ी दिक्कतें जरूर आई लेकिन धीरे धीरे सब ठीक हो गया । ऋषभ ने कई दिन उनके संदेशे का इंतज़ार किया लेकिन उनकी तरफ से किसी तरह की खबर न आने का कारण वो समझता था। उसने ही तो जाते वक़्त उनको होशियारी से रहने की हिदायत दी थी।
उच्च अधिकारियों द्वारा उस से जब भी फुरकान के बारे में पुछा जाता तो उसके पास कहने को कुछ नहीं होता।
” वी टोल्ड यु । तुम भी बहुत जज्बाती हो ऋषभ। उन्होंने सिर्फ तुम्हारा फ़ायदा उठाया ।वहां बैठ कर वो हमारी कोई मदद नहीं करेगा। ”
अगले साल जैसे ही बर्फ पिघली तो अथमुकाम से लश्कर ए तोइबा के 8 आतंकवादियों के एक ग्रुप ने लाइन ऑफ़ कंट्रोल को क्रॉस करने की कोशिश की।
तार काटने के बाद जैसे ही वो अंदर दाखिल हुए तो गेल गली के पास छुपे हुए भारतीय सिपाहियों ने उन पर घात लगा कर हमला कर दिया। सभी आतंकवादी बिना मुक़ाबला किये मारे गए । सुरक्षा बलों के लिए ये बहुत बड़ी सफलता थी।
बादामी बाग में कमांडर साहिब ने खुद ऋषभ को शाबाशी दी थी।
‘वेल डॉन ऋषभ। इतनी पक्की खबर होने के कारण ही यह ऑपरेशन हुआ “
“थैंक यू सर।मैंने आपसे कहा था ना कि फुरकान को वापिस भेजने में ही हमे ज्यादा फ़ायदा है।

2 thoughts

  1. The article is a very beautiful and lovely story written, and I thank you for giving such a beautiful information to us. I also have written an article dealing with same topic of “UP Prohibition of Unlawful Conversion of Religion Ordinance, 2020” We as a society with the highest degree of diversity we need to embrace the love, acceptance of one another before the boundaries of any religion.

Leave a Reply